Hanumangarh Murder Case: राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले में एक दलित व्यक्ति की बुरी तरह से पीट-पीटकर हत्या कर दी। जहां किसी भी पार्टी का कोई व्यक्ति या नेता नहीं दिखाई दिया। उत्तर प्रदेश की घटना में सभी नेताओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। मैं यह कहना चाहूंगा कि लखीमपुर घटना में सभी नेताओं ने जोर दबाव बनाया अच्छी बात है किंतु राजस्थान Hanumangarh Murder Case जहां कांग्रेस की सरकार है।
Hanumangarh Murder Case में एक दलित की बुरी तरीके से पीट-पीटकर हत्या कर दी जाती है। इस बात पर प्रियंका गांधी एवं राहुल गांधी सहित तमाम नेता जैसे मायावती, अखिलेश यादव इत्यादि क्यों नहीं बोलते दिखाई दे रहे हैं। जिस तरह से उत्तर प्रदेश की इस घटना का विरोध किया गया उसी तरीके से Hanumangarh Murder Case पर भी मिलकर सभी पार्टियों को विरोध करना चाहिए था। ताकि इससे यह पता चल सके की पार्टियां वास्तव में समानता के लिए लड़ रही हैं।

इस वजह से नहीं कि उत्तर प्रदेश में चुनाव है तो इसलिए इस समय उत्तर प्रदेश के लोग कीमती हैं। इसके अलावा जिन प्रदेशों में चुनाव नहीं है। वहां पर इस प्रकार की घटना हो रही हैं उन्हें इग्नोर नहीं किया जा सकता।
सूरज कुमार बौद्ध नामक एक व्यक्ति ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि Hanumangarh Murder Case, जालौर और पूरा राजस्थान जातिगत नफरत में जल रहा है। एनसीआरबी की रिपोर्ट के अनुसार जाति आधारित यौन अपराधों में राजस्थान सबसे टॉप स्थान पर है। लेकिन इसके बावजूद भी कांग्रेस नेतृत्व चुप है।
इस बात पर कांग्रेश के नेताओं को शर्म लगनी चाहिए। जहां जाति और भेदभाव को मिटाने की बातें की जा रही है। वहीं कांग्रेस शासित प्रदेश में इस तरीके की घटनाएं काफी शर्मनाक हैं। हालांकि जाती वादी घटनाएं उत्तर प्रदेश में भी बहुत ज्यादा संख्या में होती हैं किंतु इस व्यक्ति के अनुसार राजस्थान सबसे ऊपर है।  यह सब से शर्म की बात कांग्रेस नेतृत्व के लिए है। कांग्रेस नेतृत्व को चाहिए इस तरह की घटनाओं को तत्काल रोकना चाहिए। अगर उनसे नहीं रुकती हैं तो उन्हें भी इस्तीफा दे देना चाहिए।
Share.

Leave A Reply

error: Content is protected !!