Home Latest News कानपुर के बहुचर्चित विकास दुबे एनकाउंटर केस में खाकी को दागदार करने...

कानपुर के बहुचर्चित विकास दुबे एनकाउंटर केस में खाकी को दागदार करने वालों की सजा तय हो गई

कानपुर के बहुचर्चित विकास दुबे एनकाउंटर केस (बिकरू कांड) में खाकी को दागदार करने वालों की सजा तय हो गई है। इनमें वह पुलिस कर्मी शामिल है जिन्होंने कहीं न कहीं विकास दुबे को कानून के शिकंजे से निकालने का काम किया या फिर उसके काले कारनामों पर पर्दा डाला है। अधिकारियों की जांच रिपोर्ट तैयार हो चुकी है।
आईजी रेंज मोहित अग्रवाल ने बताया इस घटना के बाद तत्कालीन डीआईजी अनंत देव तिवारी समेत 11 सीओ को भी दोषी पाया गया था। इनकी जांच शासन स्तर से हो रही है। यहां पर जो सूची तैयार की गई है। उसमें इंस्पेक्टर से लेकर सिपाही पद के लोग शामिल है। कार्रवाई होने के बाद इसी की रिपोर्ट एडीजी जोन के जरिए शासन को भेजी जाएगी। कार्रवाई की जो सूची तैयार की गई है उसमें 37 पुलिस कर्मी शामिल है। जिनमें से दो की मौत हो चुकी है।
यह हैं सबसे बड़े दागदार (वृहद दंड )
वृहद दंड पाने वालों में एसआई चौबेपुर अजहर इशरत, वीरपाल सिंह, विश्वनाथ मिश्रा, सिपाही अभिषेक कुमार का दोष सिद्ध हो चुका है। इन्हें नोटिस जारी की गई है। सिपाही राजीव कुमार को मिसकंडक्ट दिया गया है। वहीं पूर्व एसओ चौबेपुर विनय कुमार तिवारी, हल्का इंचार्ज केके शर्मा के बयान न होने के कारण फैसला नहीं लिया गया है। एसआई थाना कृष्णा नगर लखनऊ अवनीश कुमार सिंह की जांच जारी है।
लघु दंड के दोषी
इसमें पूर्व एसआई चौबेपुर दीवान सिंह, पूर्व हेड कांस्टेबल चौबेपुर लायक सिंह, सिपाही विकास कुमार और कुंवरपाल को मिस कंडक्ट दिया गया है। इंस्पेक्टर बजरिया राममूर्ति यादव को नोटिस जारी की गई है। थाना कृष्णा नगर लखनऊ के पूर्व एसओ अंजनी कुमार पाण्डेय की जांच जारी है।
एडीजी से इनकी जांच के हो चुके हैं आदेश
इसमें तत्कालीन थाना इंचार्ज एसके वर्मा और थाना इंचार्ज चौबेपुर संजय सिंह की मृत्यु हो चुकी है। इसके अलावा पूर्व थाना इंचार्ज बजरिया काजी मोहम्मद इब्राहिम, पूर्व इंचार्ज चौबेपुर लालमणि सिंह, वेद प्रकाश। तत्कालीन थाना इंचार्ज रूरा धर्मवीर सिंह, पूर्व एलआईयू बीट प्रभारी कल्याणपुर सुरेश कुमार तिवारी रिटायर हो चुके हैं। उसके बाद भी इनकी जांच जारी है।
इनका दोष सिद्ध और नोटिस जारी
एडीजी की जांच में पूर्व थाना इंचार्ज चौबेपुर मुकेश कुमार, बृजकिशोर मिश्रा, राधेश्याम यादव, सतीश चन्द्र यादव, राकेश कुमार, पूर्व थाना इंचार्ज नजीराबाद जितेन्द्र पाल सिंह, तत्कालीन थाना इंचार्ज शिवली राकेश कुमार श्रीवास्तव, सूबेदार सिंह। पूर्व एसआई चौबेपुर इंद्रपाल सरोज, पूर्व एसआई रूरा लवकुश सिंह चौहान, पूर्व एसआई शिवली संजय कुमार और पूर्व एलआईयू बीट सिपाही कल्याणपुर धर्मेन्द्र सिंह का दोष सिद्ध होने के साथ इन्हें नोटिस जारी की गई है।पूर्व थाना इंचार्ज शिवली दीवान गिरि और पूर्व एसआई नजीराबाद सुजीत कुमार मिश्रा को मिस कंडक्ट दिया गया है। वहीं पूर्व एसआई थाना कृष्णा नगर लखनऊ अजय कुमार त्रिपाठी, हेड मुहर्रिर बैजनाथ गौड़ की जांच जारी है।
नंबर गेम
7 मिस कंडक्ट
2 की मौत
4 की जांच लखनऊ में चल रही
20 को नोटिस जारी

Previous articleदिल्ली पुलिस को अब किसी मामले की तफ्तीश के दौरान हार्डडिस्क या मोबाइल से नष्ट किए गए जरूरी साक्ष्य हासिल करने के लिए महीनों का इंतजार नहीं करना होगा
Next articleउत्तर प्रदेश सरकार वित्तीय वर्ष 2021-22 का पहला अनुपूरक बजट विधानमंडल में आज पेश करेगी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here