Home Health Tips तम्बाकू के सेवन से होतीं हैं 4 खतरनाक बीमारियां, आइए जाने

तम्बाकू के सेवन से होतीं हैं 4 खतरनाक बीमारियां, आइए जाने

तम्बाकू एक प्रकार के निकोटियाना प्रजाति के पेड़ के पत्तों को सुखा कर नशा करने की वस्तु बनाई जाती है। दरअसल तम्बाकू एक मीठा जहर है, एक धीमा जहर. हौले-हौले यह आदमी की जान लेता है। सरकार को भी शायद यह पता नहीं कि तम्बाकू से वह राजस्व प्राप्त करनी है, यह बात तो सही है किंतु यह भी सही है कि तम्बाकू से उत्पन्न रोगों के इलाज पर जितना खर्च किया जाता है, यह राजस्व उससे कहीं कम है। सबसे बड़ी बात तो यह है कि तम्बाकू के सेवन से जीवनी शक्ति का भी ह्रास होता है। व्यक्ति को पता चल जाता है कि तम्बाकू का सेवन हानिकारक है किंतु बाद में लाख छुड़ाने पर भी यह लत छूटती नहीं। सो धीरे-धीरे उसमें जीवनी शक्ति भी कम होती जाती है और वह अपने आपको एक तरह से विनाश के हवाले भी कर देता है। यह सर्वविदित है कि पूरे संसार में तम्बाकू का दुरूपयोग सिगरेट के रूप में किया जाता है। भारत में इसका उपयोग अन्य रूप में भी किया जाता है। जैसे बीड़ी, हुक्का, गुल, गुड़ाकु, जर्दा, किमाम, खैनी, गुटखा आदि के रूप में। तम्बाकू का प्रयोग किसी भी रूप में किया जाए, इससे शरीर पर दुष्प्रभाव पड़ता ही है। भारत में इस्तेमाल किए जाने वाले तम्बाकू कई प्रकार के होते है:-
1.धुंआ रहित तम्बाकू
तम्बाकू वाला पान, पान मसाला, तम्बाकू, सुपारी और बुझे हुए चूने का मिश्रण, मैनपुरी तम्बाकू, मावा, तम्बाकू और बुझा हुआ चूना (खैनी), चबाने योग्य तम्बाकू, सनस, मिश्री, गुल, बज्जर, गुढ़ाकू, क्रीमदार तम्बाकू पाउडर, तम्बाकू युक्त पानी
2.धूम्रपान वाला तम्बाकू
बीड़ी, सिगरेट, सिगार, चैरट (एक प्रकार का सिगार), चुट्टा, चुट्टे को उल्टा पीना, धुमटी, धुमटी को उल्टा पीना, पाइप, हुकली, चिलम, हुक़्क़ा इत्यादि। आज मैं आपको तम्बाकू से होने वाली खतरनाक बीमारियों के बारे में बताने जा रहें हैं। आइये जानते हैं उन बीमारियों के बारे में।
तम्बाकू के सेवन से होने वाली बीमारियां
1. कैंसर होने के कारणों में सबसे बड़ा योगदान तम्बाकू का ही होता हैं। तम्बाकू के सेवन से अनेक प्रकार के होने वाले रोगों में कैंसर प्रमुख हैं। इससे फेफड़े का कैंसर हो सकता है, मुँह का कैंसर हो सकता है या फिर गले अथवा श्वसन नली का कैंसर हो सकता हैं। इसके अलावा पेट का कैंसर, किडनी तथा पैंक्रियाज में होने वाले कैंसर, ब्लैडर और मूत्राशय संबंधी रोगों में भी तम्बाकू महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हैं। तम्बाकू में निकोटीन , नाइट्रोसाइमिन, टार, बेनजीन, आर्सेनिक, क्रोमियम, आदि कैंसर पैदा करने वाला प्रमुख तत्व पाए जाते हैं। तम्बाकू के ये कैंसर उत्पन्न करने वाले तत्व कार्सिनोजेनिक तत्व कहे जाते हैं।
2.तम्बाकू से होने वाले मुख्य रोगों में कैंसर के बाद हृदय संबंधी रोग आते हैं। रक्त में निकोटीन तथा कार्बन की मात्रा बढ़ जाने से शरीर के नसों में थक्के जम जाते हैं, जिससे रक्त परिवहन में समस्या आ जाती है और शरीर का परिवहन तंत्र प्रभावित हो जाता हैं। हृदय का कार्य शरीर में रक्त परिवहन को सुचारु रूप से बनाये रखना होता है। यदि शरीर के किसी भाग में रक्त परिवहन ठीक से नही होता है तब हृदय उन जगहों पर रक्त भेजने के लिए जोड़ लगाती है, जिसके फलस्वरूप नसों में रक्तचाप बढ़ जाता है, रक्तचाप बढ़ जाने के कारण आपकी नसें फट सकती है तथा हृदयाघात भी हो सकता है। थक्के जमने के अलावा जब सिगरेट, बीड़ी इत्यादि से निकलने वाला कार्बन मोनो-ऑक्साइड फेफड़ों के द्वारा हमारे रक्त में मिल जाते है, तब रक्त में ऑक्सीजन की मात्रा कम हो जाने के कारण भी रक्तचाप बढ़ जाता हैं।
3.मनुष्य का मुख्य श्वशन अंग फेफड़ा हैं। धुआंयुक्त तम्बाकू का सेवन हमारे फेफड़ो पर बहुत ही बुरा असर डालते हैं। यदि आप किसी दुसरे व्यक्ति के द्वारा छोड़े गये तम्बाकू का धुआं ग्रहण कर लेते है तो आपके फेफड़ो का भी उतना ही नुकसान होगा जितना उस तम्बाकू पीने वाले के फेफड़ों का होगा। हमारे फेफड़ो में छोटे-छोटे लगभग 30 करोड़ अल्वेओली(Alveoli) पायें जाते है जो रक्त में ऑक्सीजन मिलाने तथा कार्बन डाई-ऑक्साइड निकालने का कार्य करते है। तम्बाकू का गर्म धुंआ हमारे फेफड़ों के इन वायु पुटिकाओ यानि अल्वेओली के दीवालों को नुकसान पहुचाते है जिससे रक्त में ऑक्सीजन ठीक से नही मिल पाता है। तम्बाकू के सेवन अथवा उसके ध्रुमपान करने से धुंए के साथ जो कार्बन तथा टार हमारे फेफड़ों में चले जाते है, वो फेफड़ो में पायी जानेवाली सिलिया के बालों के पर्त पर जम जाते है, जिससे श्वाश लेने में परेशानी का सामना करना पड़ता है। तम्बाकू के ज्यादा सेवन से फेफड़ों का कैंसर भी हो सकता है।
4.तम्बाकू से होने वाली अन्य बीमारियां
तम्बाकू का सेवन पुरुष या महिला दोनों के प्रजनन क्षमता को प्रभावित करता है, पुरुषों में तम्बाकु के सेवन से शुक्राणुओं की संख्या कम हो जाती है, जिससे नपुंसकता हो सकता हैं, जबकि स्त्रियों में तम्बाकू के सेवन से बाँझपन हो सकता हैं। गर्भावस्था के दौरान गर्भपात हो जाने की आशंका बनी रहती है तथा भ्रूण का विकास प्रभावित होता है। तम्बाकू में पाए जानेवाले फोस्फोरल प्रोटिक एसिड के कारण टी. बी. रोग तथा परफैरोल के कारण दांत पीले, मैले और कमजोर हो जाते हैं। तंबाकू से होने वाले ल्यूकोप्लाकिया (leukoplakia) रोग के कारण आपके दांत और मसूड़े सड़ने लगते हैं। तम्बाकू का ज्यादा नशा करने से स्वाद तथा सूंघने की शक्ति प्रभावित होती हैं। साथ ही Asthma (दम्मा) तथा कई असंक्रामक रोग हो जाते हैं। इसके ज्यादा सेवन से मुँह से दुर्गन्ध आती रहती है साथ ही हमारी लार ग्रंथि भी बहुत ज्यादा प्रभावित होती जिसके फलस्वरुप भोजन के पाचन में परेशानी होने लगती हैं। कभी-कभार छाती में दर्द होना, जक

Previous articleचेहरे पर भूलकर भी न करें इन चीजों का इस्तेमाल, वरना बाद में पछताना पड़ेगा
Next articleइस चीज़ को बीयर से साथ खाने से होतें हैं फायदे, आइए जाने

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here