Home Health Tips हार्ट अटैक से नहीं बल्कि इन 5 रोगों से भी होता है...

हार्ट अटैक से नहीं बल्कि इन 5 रोगों से भी होता है छाती में दर्द, आइए जाने

सीने में दर्द होने पर हमेशा लोग इसे हार्ट अटैक का दर्द मानते है जबकि ऐसा नहीं है छाती में दर्द के अन्य भी कारण हो सकते है . तो अगर अगर किसी व्यक्ति को अचानक सीने में दर्द की समस्या होती है तो घबराने के बजाये उसे तुरंत चिकित्सक को दिखायें . फेफड़ो में संक्रमण भी हो सकता है , ऐसोफैगुस , मांशपेशियों या तंत्रिकाओ की किसी समस्या के कारण भी हो सकता है .
1. फेफड़ो की झिल्ली में सूजन
सीने में दर्द सीने के अंदर दीवारों में सूजन के कारण भी हो सकता है . जब फेफड़ों के उपरी हिस्से पर झील्ली पर सूजन आ जाती है तो सीने के अन्दर की दीवार में सूजी हुई जगह पर सांस लेते वक़्त हवा रगड़ खाने लगती है . जिस कारण बहुत ज्यादा दर्द होता है इसको मेडिकल भाषा में pelurites कहते है . इसका कारण टीवी का इन्फेक्शन या निमोनिया होता है ऐसे में किसी अच्छे डॉक्टर को जल्द दिखाना ठीक रहता है .
2.दिल के आस पास थैली में सूजन
दिल के आस पास थैली में सूजन या संकर्मण की समस्या को pericarditis कहते है . ऐसा दर्द Enjyna के कारण हार्ट अटैक में दर्द होने के सामान ही होता है . हालाँकि यह अक्सर उपरी गर्दन और कंधे की मांशपेशियों में दर्द का कारण बन जाता है कभी कभी सांस लेने या खाना खाने या पीठ के बल लेटने से ये दर्द असहनीय हो जाता है .
3. ऑक्सिजन की कमी
दिल की नसों में रुकावट होने पर ये दिल की मांसपेशियों को रक्त परवाह और ऑक्सिजन कम कर देती है. जिस कारण सीने में दर्द होता है. लेकिन दिल को किसी पार्कर की हानि नहीं होती enjyna से हुआ सीने में दर्द कंधे हाथ व जबड़े तक जा सकता है enjyna से हुआ सीने में दर्द उत्साह व्यायाम या किसी भावनात्मक वजह से हो सकता है. और अराम करने से चला जाता है.
4. पेट की गैस
पेट में गैस या किसी भी पेट रोग के कारण भी सीने में दर्द हो सकता है अल्सर और गास्टिक इस समस्या का कारण बन सकते है जब पित्त की थैली में गैस बनती है और सीने के तरफ जाती है तो भी सीने में दर्द होता है अगर छाती में जलन हो और सोने पर तेज़ दरद में बदल जाए तो ये भी पेट की समस्या के कारण होता है.
5. ऐसोफ़ेगैस की समस्या
एसोफैगस को हिंदी में ग्रासनली कहते हैं यानि ये वो ट्यूब है जो आपके गले से पेट तक जाता है और जिसके सहारे आपके मुंह का आहार पेट तक पहुंचता है। एसोफेगस जहां पर पेट से जुड़ती है वहां इसकी परत एक अलग प्रकार की कोशिकीय बनावट की होती है एसोफैगस की समस्या में खाने-पीने की चीजों को निगलने और पेट भरने में भी परेशानी होती है। कई बार इसके लक्षणों के हार्ट अटैक या एसिड रिफ्लक्स से मिलने-जुलने के कारण इसका गलत इलाज कर दिया जाता है।

Previous articleइन चीजों का सेवन यात्रा के दौरान भूलकर भी ना करें, वरना हो सकती है परेशानी
Next articleकई मामलों में आरोपित होने के बाद जिला बदर किए गए आरोपित को पुलिस ने किया गिरफ्तार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here