Home Latest News केजरीवाल सरकार अहम फैसला छह शहीद कर्मियों के परिवारों की आर्थिक मदद...

केजरीवाल सरकार अहम फैसला छह शहीद कर्मियों के परिवारों की आर्थिक मदद के लिए उन्हें एक-एक करोड़ रुपये की मदद करेगी

दिल्ली की केजरीवाल सरकार ड्यूटी के दौरान जान गंवाने वाले वायुसेना, दिल्ली पुलिस और सिविल डिफेंस के छह शहीद कर्मियों के परिवारों की आर्थिक मदद के लिए उन्हें एक-एक करोड़ रुपये की अनुग्रह राशि देगी।
जानकारी के अनुसार, दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शनिवार को एक ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में कहा कि अपने कर्तव्य का निर्वहन करते हुए जान गंवाने वाले वायुसेना, दिल्ली पुलिस और सिविल डिफेंस के छह कर्मियों के परिवारों को एक-एक करोड़ रुपये की अनुग्रह राशि दी जाएगी।
जिन शहीदों के परिजनों को यह 1 करोड़ रुपये की अनुग्रह राशि दी जाएगी उनमें- राजेश कुमार (एयरफोर्स), सुनीत मोहंती (एयरफोर्स), मीत कुमार (एयरफोर्स), संकेत कौशिक (दिल्ली पुलिस), विकास कुमार (दिल्ली पुलिस), प्रवेश कुमार (सिविल डिफेंस) शामिल हैं।
सिसोदिया ने बताया कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली सरकार देश की सेवा करते हुए शहीद हुए जवानों के परिवारों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी है।
देश को बाहरी और भीतरी ख़तरों से बचाते हुए सुप्रीम शहादत देने वाले इन जाँबाज़ों को मैं नमन करता हूँ। दिल्ली सरकार इनके परिवारों को एक एक करोड़ रुपए की सम्मान राशि देगी। हम इन परिवारों को कहना चाहते हैं – देश आपके साथ है, देश को आपके बेटे/बेटी पर गर्व है।
उन्होंने कहा कि जवानों का शहीद होना एक अपूरणीय क्षति होती है। केजरीवाल सरकार ने सत्ता में आने के बाद ऐसे कर्मियों के परिवारों को अनुग्रह राशि मुहैया करने के लिए योजना शुरू की है, ताकि यह उनके लिए आय का स्रोत बन सके और वे गरिमा के साथ जीवन जी सकें।
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, ”देश को बाहरी और भीतरी खतरों से बचाते हुए सुप्रीम शहादत देने वाले इन जांबाजों को मैं नमन करता हूं। दिल्ली सरकार इनके परिवारों को एक एक करोड़ रुपये की सम्मान राशि देगी। हम इन परिवारों को कहना चाहते हैं – देश आपके साथ है, देश को आपके बेटे/बेटी पर गर्व है।”
बता दें कि इसके साथ ही दिल्ली सरकार द्वारा कोविड-19 संक्रमण की चपेट में आकर जान गंवाने वाले दिल्ली के सभी कोरोना वॉरियर्स के परिवारों को भी सरकार की ओर से 1 करोड़ रुपये की आर्थिक मदद दी जाती है।
गौरतलब है कि पिछले एक साल में बड़ी संख्या में डॉक्टर, नर्सें और अन्य स्वास्थ्य कर्मी और फ्रंटलाइन वर्कर्स कोरोना संक्रमण से संपर्क आए हैं, और उनमें से कुछ की मौत भी हो गई है।

Previous articleउत्तर प्रदेश में सरकारी कर्मचारियों को लेकर योगी सरकार का सख्त आदेश, आइए जाने
Next articleसीएम योगी ने 21 जून से करोना कर्फ्यू को लेकर दी राहत अब रात 9 बजे तक मिलेगी छूट, आइए जाने

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here