Home Education and Jobs अगर आप भी यूपी टीजीटी के पेपर के कर रहे हैं तैयारी...

अगर आप भी यूपी टीजीटी के पेपर के कर रहे हैं तैयारी तो कृषि विज्ञान के इन प्रश्न उत्तर को जरूर पढ़ें

1.मक्का उगाने के लिए निम्नलिखित में से कौन-सी परिस्थिति अनिवार्य नहीं है?
उत्तर – निम्न तापमान
2. अनाज से भूसी-चोकर को अलग करने की प्रक्रिया के लिए प्रयोग किए जाने वाला शब्द है:
उत्तर – पफटकना
3. जैव खाद के संदर्भ में निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सही नहीं है?
उत्तर – इसमें सभी पादप पोषक संतुलित मात्राा में होते हैं।
4. नाइट्रोजन के प्रमुख उर्वरक कौन से हैं और उनमें नाइट्रोजन की मात्रा कितनी है?
उत्तर – नाइट्रोजन के प्रमुख उर्वरक निम्लिखित हैं। प्रत्येक उर्वरक में उपस्थित नाइट्रोजन कोष्ठ में दी गई है : यूरिया (46% ) कैल्शियम साइनामाईड (21%)ए कैल्शियम अमोनियम नाइट्रेट (25% तथा 26% )ए अमोनिया सल्फेट नाइट्रेट (26%)ए अमोनिया नाइट्रेट (33-34%) ए अमोनिया सल्फेट (20%) ए अमोनिया क्लोराइड (24-26%) ए कैल्शियम नाइट्रेट (15.5%) ए सोडियम नाइट्रेट (16%) ए अमोनिया घोल (20-25%) ए अमोनिया एनहाईड्रेस (82%) ए तथा अमोनिया फास्फेट (20% नाइट्रोजन + 20% पी2ओ5), पोटेशियम नाइट्रेट (13% नाइट्रोजन तथा 44% पोटाशियम), यूरिया सल्फर(30 से 40%) नाइट्रोजन तथा 6 से 11% गंधक), दी अमोनियम फास्फेट (18% नाइट्रोजन तथा 46% पी2ओ5)।
5. गन्धक की कमी के लक्षण क्या है?
उत्तर – गन्धक की कमी के लक्षण मुख्यता रेतीली जमीनों में प्रकट होते है। कमी के लक्षण मुख्यता नयी पत्तियों पर प्रकट होते है। पत्तियों का हरा रंग समाप्त होना शुरू हों जाता है। कई बार रंग धारियों में उड़ता है चौड़ी पत्ती वाले पौधों में पत्तियों का रंग पीला या सुनहरी पीला हों जाता है। पत्तियों के किनारे ऊपर या नीचे की ओर मुड जाते है। और प्याले जैसे आकार के दिखने लगते है।
6. जस्ते का पौधों के पोषण में क्या महत्व है?
उत्तर – जस्ता अनेकों एंजाइमों का एक घटक होता है जैसे कार्बोनिक एनहाइड्रेस, एलकोहल जिहाइड्रोजेनेस और विभिन्न पेप्टीडेस। अत: यह अनेको एंजाइमीप्रतिक्रियों के लिए आवश्यक होता है। यह वृद्धि हार्मोनों के निर्माण में भी सहायता करता है। जिससे पौधों की बढ़वार अच्छी होती है।
7.राईजोबियम कल्चर किन-किन फसलों के काम आता है?
उत्तर – यह निम्न दलहनी फसलों के काम आता है – चना, मसर, मटर, बरसीम, रिजका, मूंग, उडद, लोबिया, अरहर, ग्वार, सोयाबीन, तथा मूंगफली। हरेक फसल का टीका अलग-अलग होता है।
8. असिंचित गेहूं में यूरिया का छिड़काव कब करना चाहिए?
उत्तर – असिंचित गेहूं में यूरिया का छिड़काव फसल की बिजाई के 1 ½ -2 माह बाद 12-15 दिन के अन्तर पर करना चाहिए।
9. दाल वाली फसलों के बाद में जौ में कितनी नाइट्रोजन दें?
उत्तर – दाल वाली फसलों के बाद नाइट्रोजन की मात्रा में 25 प्रतिशत की कटौती की जा सकती है। सिंचित जौ में 18 कि.ग्रा. नाइट्रोजन प्रति एकड़ दें।
10.चने में फास्फोरस की मात्रा कितनी, कब और कैसे प्रयोग करने चाहिए?
उत्तर – चने में 16 किलोग्राम फास्फोरस (पी2 ओ5) की सिफारिश की जाती है जिसे डी.ए.पी. या सिंगल अथवा ट्रिपल सुपर फास्फेट द्वारा बिजाई के समय बीज से 3-5 सैं.मी. नीचे पोर देना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here