Home Health Tips दांत रहेंगे ज़िन्दगी भर मजबूत और चमकदार इस नुस्खे को आजमा लो

दांत रहेंगे ज़िन्दगी भर मजबूत और चमकदार इस नुस्खे को आजमा लो

नीम भारतीय मूल का एक पर्ण- पाती वृक्ष है। यह सदियों से समीपवर्ती देशों- पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, म्यानमार (बर्मा), थाईलैंड, इंडोनेशिया, श्रीलंका आदि देशों में पाया जाता रहा है।
आजकल के खानपान और जीवनशैली के कारण दांतों में पीलापन, दांतों में कीड़ा और सड़न जैसी समस्या आम बात है । इन समस्याओं से छुटकारा पाने तथा दांतों को लम्बी उम्र के लिए मजबूत और चमकदार रखने में नीम का दातुन सर्वश्रेष्ठ है । क्योंकि नीम एक औषधिय गुणों से भरपूर पेड़ है । इसकी हरी छाल को दातुन के रूप में प्रयोग किया जाता है । यह बहुत ही असरदार होता है ।
1. नीम के दातुन को अच्छी तरह से धोकर धीरे-धीरे चबाना चाहिए, उससे जो रस निकलता है वह दांतो के दर्द को दूर करता है क्योंकि इसका एन्टी-बैक्टिरीयल, एन्टी-फंगल और एन्टी-वायरल गुण इस क्षेत्र में बहुत काम करता है। साथ ही मसूड़े मजबूत होते हैं जिसके कारण बुढ़ापे में भी दांतों की कोई समस्या नहीं होती है।
2. आजकल तरह-तरह के जंक फूड खाने के वजह से दांतों में पीलेपन की समस्या हो गई है। नीम के दातुन से जो रस निकलता है वह दातों के पीलेपन को साफ करके उन्हें सफेद, स्वस्थ और चमकदार बनाता है।
3. बच्चों को दांतों में कीड़ा होने की समस्या तो आम हैं। चॉकलेट खाते रहते हैं और दांत दर्द से रोते रहते हैं। अगर आप नियमित रूप से नीम के दातुन से दांतों को साफ करेंगे तो कभी भी कीड़े की समस्या नहीं होगी, क्योंकि यह किटाणुनाशक होता है।
4. यदि आप नियमित रूप से नीम के दातुन से दांतों की सफाई करते हैं तो आपको पायरिया की समस्या नहीं सताएगी । इसके लिए आपको दातुन को दांतों के में चारों तरफ अच्छे से घुमाना चाहिए जिससे सफाई ठीक से हो सके ।
5. नीम के दातुन से मुंह धोने का एक फायदा ये भी है कि इससे मसूड़ों को मजबूती मिलती है । दातुन को ऊपर के दांतों में ऊपर से नीचे की ओर और नीचे के दांतों में नीचे से ऊपर की ओर करें । इससे आपके मसूड़े मजबूत होंगे ।
6. शायद आपको ये पढ़कर हैरानी हो लेकिन ये काफी हद तक सच है । इसके लिए जब आप दातुन बनाने के लिए दांतों से टहनी को चबाते हैं तो उस समय जो रस मुंह में बनते हैं उन्हें थूके नहीं बल्कि निगल लें । इससे आंतों की सफाई और ब्लड प्यूरीफाई होता है, साथ ही त्वचा संबंधी रोग भी नहीं होते ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here