Home Latest News यूपी का नया डीजीपी कौन होगा, 30 जून को मौजूदा डीजीपी होंगे...

यूपी का नया डीजीपी कौन होगा, 30 जून को मौजूदा डीजीपी होंगे सेवानिवृत्ति, 5 नाम रेस में सबसे आगे

उत्तर प्रदेश पुलिस महानिदेशक हितेश चंद्र अवस्थी 30 जून को सेवानिवृत्ति हो रहे हैं।पुलिस महानिदेशक की कुर्सी के लिए अभी से उठा पटक चालू हो गई हैं और अब इस उठा पटक में नया पुलिस महानिदेशक कौन होगा।पुलिस महानिदेशक बनने की रेस में 5 नाम बड़ी तेजी के साथ दौड़ लगा रहे है। 2022 यूपी विधानसभा चुनाव हैं और ऐसे में नए पुलिस महानिदेशक की भूमिका बहुत खास होगी।यूपी सरकार वरिष्ठता को अहमियत देगी या अवस्थी से पहले कई वरिष्ठ को दरकिनार कर कुर्सी पर काबिज हुए ओपी सिंह जैसा फाॅर्मूला अपनाएगी। ये तो आने वाली  30 जून को ही पता चल पायेगा।

डीजीपी बनने की रेस में ये 5 चेहरे आगे

आरपी सिंह

1987 बैच के अफसर डीजी ईओडब्ल्यू और एसआईटी का कार्यभार संभाल रहे  आरपी सिंह यूपी पुलिस महानिदेशक  की रेस में सबसे आगे हैं।आरपी सिंह दो साल के दौरान ईओडब्ल्यू और एसआईटी की कई अहम जांचों में दे दना-दन कार्रवाई कर चर्चा में आए।यूपी पुलिस महानिदेशक की कुर्सी के प्रबल दावेदारों में से एक हैं। पावर कॉरपोरेशन, पीएफ घोटाला, बाइक बोट घोटाला, सहकारिता भर्ती घोटाला, मदरसों में फर्जीवाड़ा जैसी जांचों में इनकी तेज कार्रवाई चर्चा में रही है। आरपी सिंह का फरवरी 2023 में रिटायरमेंट है।

आरके विश्वकर्मा

1988 बैच के अफसर डीजी भर्ती बोर्ड आरके विश्वकर्मा का नाम पुलिस महानिदेशक रेस में शामिल है।मई 2023 में सेवानिवृत्त होंगे। तकनीकी मामलों में जानकर और तेज तर्रार अफसरों में जाने जाते है। 112 यूपी प्रोजेक्ट को जमीन पर उतारने में इनका भी अहम रोल रहा है। सरकार के जातीय समीकरण की राजनीति हिसाब से ये भी मजबूत दावेदार माने जा रहे है।

डॉ. देवेंद्र सिंह चौहान

1988 बैच के अफसर डॉ. देवेंद्र सिंह चौहान भी पुलिस महानिदेशक की रेस में शामिल हैं।मौजूदा समय डीजी इंटेलिजेंस के पद पर तैनात हैं।ये मार्च 2023 में सेवानिवृत्ति होंगे।सरकार अगर वरिष्ठता की अनदेखी करती है, तो 5 दावेदारों में ये भी शामिल है।

अनिल कुमार अग्रवाल

1988 बैच के अफसर अनिल कुमार अग्रवाल भी पुलिस महानिदेशक की रेस में हैं।मौजूदा समय में केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर हैं और मिनिस्ट्री आफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज में तैनाती हैं, हाल ही में इनका सचिव स्तर पर केंद्र में इम्पैनलमेंट हुआ है। सपा सरकार में इनकी ही देखरेख में 112 यूपी प्रोजेक्ट जमीन पर आया था। प्रदेश की यातायात व्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए इन्होंने आईएमएस प्रोजेक्ट तैयार किया। लंबे समय तक वह एडीजी डॉयल 100 के पद पर रहे। अप्रैल 2023 में सेवानिवृत्ति होंगे।

आनंद कुमार

1988 बैच के अफसर का पुलिस महानिदेशक की रेस में आखिरी नंबर पर  डीजी जेल आनंद कुमार का है।आनंद कुमार अप्रैल 2024 में सेवानिवृत्ति होंगे। कई मामलों के लिए बदनाम यूपी की जेलों को इन्होंने सुधारने में बड़े पैमाने पर काम किया है।मौजूदा सरकार में लंबे समय तक एडीजी कानून एवं व्यवस्था के पद पर रहते हुए कानून व्यवस्था को पटरी पर लाने में इनका अहम रोल रहा।

ये भी नाम रेस आगे हैं

आईपीएस अधिकारियों की वरिष्ठता सूची में डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी के बाद 1985 बैच के ही आइपीएस अधिकारी अरुण कुमार का नाम है। केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर डीजी आरपीएफ के पद पर तैनात अरुण कुमार का कार्यकाल भी अगले महीने पूरा हो रहा है। इसके बाद 1986 बैच में आईपीएस अधिकारी नासिर कमाल और सुजानवीर सिंह के नाम हैं। नासिर केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर हैं और मौजूदा समय में डीजी एलएनजेएन, एनआईसीएफएस के पद पर तैनात हैं।

ये जुलाई 2022 में सेवानिवृत्ति होंगे। केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर तैनात 1987 बैच के अफसर मुकुल गोयल के भी नाम की चर्चा है। 1987 बैच के ही विश्वजीत महापात्रा को नाराजगी के कारण डीजी सीबीसीआईडी के पद से हटाकर प्रतीक्षारत कर दिया गया है। सरकार बनने के बाद इन्हें वीवीआईपी वाराणसी जोन का एडीजी बनाया गया था।लेकिन सीएम की नाराजगी की वजह से पुलिस महानिदेशक की रेस में काफी पीछे माने   जा रहे है। जुलाई 2022 में ये सेवानिवृत्ति होंगे।

1987 बैच के अफसर गोपाल लाल मीणा भी पुलिस महानिदेशक की रेस में कुछ कुछ दिख रहे है।मौजूदा समय में ये डीजी राज्य मानवाधिकार आयोग के पद पर इनको तैनाती हैं।ये जनवरी 2023 में सेवानिवृत्ति होंगे। इन्हें भी सीएम की नाराजगी के बाद डीजी होमगार्ड के पद से हटा दिया गया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here