Home Health Tips यदि हाथ-पैर झुनझुनाहट से सुन्न होते है तो इस खबर को नजरअंदाज...

यदि हाथ-पैर झुनझुनाहट से सुन्न होते है तो इस खबर को नजरअंदाज ना करें

स्वास्थ्य सिर्फ बीमारियों की अनुपस्थिति का नाम नहीं है। हमें सर्वांगीण स्वास्थ्य के बारे में जानकारी होना बोहोत आवश्यक है। स्वास्थ्य का अर्थ विभिन्न लोगों के लिए अलग-अलग होता है। लेकिन अगर हम एक सार्वभौमिक दृष्टिकोण की बात करें तो अपने आपको स्वस्थ कहने का यह अर्थ होता है कि हम अपने जीवन में आनेवाली सभी सामाजिक, शारीरिक और भावनात्मक चुनौतियों का प्रबंधन करने में सफलतापूर्वक सक्षम हों। वैसे तो आज के समय मे अपने आपको स्वस्थ रखने के ढेर सारी आधुनिक तकनीक मौजूद हो चुकी हैं, लेकिन ये सारी उतनी अधिक कारगर नहीं हैं।
एक जैसी स्थिति में बैठे रहने से हाथ पैर पूरी तरह सुन्न पड़ जाते है। ऐसा होने पर हम किसी भी चीज को छुते है तो हमे उसका अहसास भी नही होता। ऐसी अवस्था में हाथ-पैरों में सुईयां चुभने जैसा गहरा अहसास होता हैं या झनझनाहट सी महसूस होती हैं। हाथ-पैर सुन्न होने के दूसरे भी कई सारे कारण हो सकते हैं जैसे थकान, डायबिटीज, धूम्रपान, पोषक तत्वों की कमी आदि का होना।
इसके साथ ही यह भी हो सकता है कि आपको प्रभावित स्थान पर दर्द, ऐठन या कमजोरी बहुत ज्यादा महसूस होती हो। ऐसे में हम आपके लिए कुछ घरेलू उपाय लेकर आये है जिनके माध्यम से आप इस समस्या से पूरी तरह छुटकारा पा सकते है।
एक हाथ के बजाय दोनों हाथों को बराबर काम में लें। ज्यादा देर तक अपनी कलाई को नीचे झुकाकर न रखें। हाथों को दबाकर न सोएं। हाथ की नसों पर दबाव पडऩे से समस्या हो सकती है। हाथ, कलाई और अंगुलियों का व्यायाम करना बहुत जरूरी होता है। समय-समय पर हाथों की मसाज भी जरूर करें।
पोषक तत्वों की कमी- विटामिन बी-12, पोटैशियम, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम की शरीर में कमी होने पर हाथ व पैर सुन्न पड़ने लगते हैं। ऐसे में थकावट व आलस का एहसास भी लगातार होता है। खान-पान में इन सभी तत्वों को शामिल कर, इनकी कमी दूर की जा सकती है। पोषक तत्वों की पूर्ति के लिए कई बार चिकित्सक सप्लीमेंट की सलाह भी देते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here