Home Lifestyle डायबिटीज से जुड़े ऐसे झूठ जिसे सब मानते है सच, आइए जाने

डायबिटीज से जुड़े ऐसे झूठ जिसे सब मानते है सच, आइए जाने

डायबिटीज मेलेटस (डीएम), जिसे सामान्यतः मधुमेह कहा जाता है, चयापचय संबंधी बीमारियों का एक समूह है जिसमें लंबे समय तक उच्च रक्त शर्करा का स्तर होता है। उच्च रक्त शर्करा के लक्षणों में अक्सर पेशाब आना होता है, प्यास की बढ़ोतरी होती है, और भूख में वृद्धि होती है।
अनियमित जीवनशैली और खानपान की वजह से आज कल लोगो मे सबसे ज्यादा डायबिटीज जैसी बीमारी ज्यादा देखने को मिल रही है। डायबिटीज में खानपान का बेहद परहेज करना होता है, ऐसे में आज कल डायबिटीज को लेकर लोगो के मन मे बहुत सारे झूठ भी बैठ गया है। जिनको लोग सच समझने लगते हैं। आइए जानते हैं क्या हैं ये झूठ?
दोस्तो अक्सर आपने सुना होगा कि डायबिटीज के मरीजों को मीठा नहीं खाना चाहिए। जबकि यह सच नही है सच्चाई यह है कि डायबिटीज के मरीज को हमेशा संतुलित आहार लेना चाहिए। जिसमे मीठा भी हो सकता। दरअसल डायबिटीज में मीठा खाने से ब्लड शुगर अनियंत्रित हो जाता है, ऐसे में हर चीज बेहद संतुलित मात्रा में लेनी जरूरी होती है।
अक्सर डायबिटीज को लेकर कहा जाता है कि यह आनुवंशिक बीमारी है। जबकि यह सच्चाई नही है। अगर जीवनशैली और खानपान आपका सही नही रहता है। तो यह बीमारी किसी को भी हो सकती है। आपको बता दे कि तनाव की वजह से भी डायबिटीज की बीमारी होती है।
अक्सर लोग सोचते हैं कि डायबिटीज में कोई भी फल खाया जा सकता है। जबकि यह सच नहीं है। डायबिटीज में ऐसे फल खाए जाते हैं जिनमें शुगर की मात्रा कम हो। फलों में प्राकृतिक तौर पर शर्करा मौजूद रहती है। ऐसे में बहुत से ऐसे फल भी है जो कि ब्लड शुगर के स्तर को बढ़ा देते हैं। इसलिए, डायबिटीज में ऐसे ही फल खाएं जो आपके रक्त शर्करा को न बढ़ाए।
डायबिटीज को लेकर यह भी कहा जाता है कि यह बीमारी सिर्फ मोटे लोगों को होता है। जबकि यह सच्चाई नही है। डायबिटीज किसी को भी हो सकता है। आप को बता दे कि जिसकी भी जीवनशैली अनियमित होगी उस्कोबडायबिटीज होने का खतरा रहता है। बहुत लोग मानते है कि डायबिटीज में कार्बोहाइड्रेट युक्त आहार नही लेना चाहिए। लेकिन यह भी सच नहो आपको स्वस्थ कार्बोहाइड्रेड वाला आहार लेना होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here