Home Lifestyle कई बीमारियों का इलाज है हमारी नाभि, आइए जाने

कई बीमारियों का इलाज है हमारी नाभि, आइए जाने

नाभि (चिकित्सकीय भाषा में अम्बिलीकस के रूप में ज्ञात और बेली बटन के नाम से भी जानी जाती है) पेट पर एक गहरा निशान होती है, जो नवजात शिशु से गर्भनाल को अलग करने के कारण बनती है। सभी अपरा संबंधी स्तनपाइयों में नाभि होती है। यह मानव में काफी स्पष्ट होती है।
नाभि के द्वारा सभी नसों का जुडाव होता है, इसलिए नाभि शरीर का एक अद्भुत भाग है, नाभि के पीछे की ओर पेचूटी होता है, जिसमें 72000 से भी अधिक रक्त धमनियां स्थित होती है, नाभि में देशी गाय का शुध्द घी या सरसों तेल लगाने से बहुत सारी शारीरिक परेशानियों का उपाय हो सकता है।
1. नजर कमजोर, चमकदार त्वचा और बालों के लिये
सोने से पहले 3 से 7 बूँदें शुध्द देशी गाय का घी और नारियल के तेल नाभी में डालें और नाभी के आसपास डेढ ईंच गोलाई में फैला दें।
2. घुटने के दर्द में
सोने से पहले तीन से सात बूंद अरंडी का तेल नाभी में डालें और उसके आसपास डेढ ईंच में फैला दें।
3. जोड़ो में दर्द व शुष्क त्वचा के लिए
रात को सोने से पहले तीन से सात बूंद राई या सरसों की तेल नाभि में डालें और उसके चारों ओर डेढ ईंच में फैला दें।
4. चेहरे पर होने वाले पिम्पल के लिए
नीम का तेल तीन से सात बूंद नाभि में डालने से पिम्पल्स की समस्या दूर होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here