Home Latest News फ़रिश्ते की तरह आकर कोरोना वारियर्स ने बचाई दो मासूम बच्चों की...

फ़रिश्ते की तरह आकर कोरोना वारियर्स ने बचाई दो मासूम बच्चों की जान

हरदोई : जिसका कोई नहीं उसका तो खुदा है यारों, वाली कहावत आज सच हो गई। नई राह सेवा संस्थान की संस्थापिका शिप्रा सोनकर प्रतिदिन की तरह आज भी मानसिक विक्षिप्त रिक्शा चालकों और फुटपाथ पर रहने वाले लोगों के बीच भोजन का वितरण कर रही थी। इसी दौरान रोडवेज बस स्टॉप पर एक 7 वर्षीय मासूम बालक 5 माह की दूधमुही बच्ची को लेकर के भोजन मांग रहा था।

गोद में बच्ची अचेत अवस्था में थी। स्थिति को समझते ही शिप्रा सोनकर ने दूध मंगवा कर बच्ची को पिलाया और लड़के को भरपेट भोजन कराया। दोनो के पास पहनने को कपड़े नही थे तुरंत नए कपड़े लाकर पहनाए। शिप्रा के पूछने पर लड़के ने अपना नाम सलमान पुत्र जमील खान निवासी झकरकटी कानपुर बताया। उसने बताया कि वह कानपुर से लखनऊ तक अपनी मां रुबीना के साथ आया था।

लखनऊ में मां ने उसे छोड़ दिया जिस पर सलमान अपनी 5 माह की बहन को लेकर संडीला नानी के घर आ रहा था। बस में सो जाने के कारण वह दोनों मासूम बच्चे हरदोई आ गए और भूख प्यास के मारे उनकी हालत खराब हो चुकी थी।

सूचना पाकर मौके पर पहुंचे इंडियन रोटी बैंक के संस्थापक विक्रम पांडे ने मामले को संदिग्ध जानकर पुलिस को सूचना दी साथ ही चाइल्ड हेल्प लाइन की मेंबर विभा शुक्ला ने कोतवाली पहुच कर बच्चों को चाइल्ड हेल्प लाइन ले गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here