Home Lifestyle आखिर कैसे बना एक शेर मां दुर्गा की सवारी जो अपना आहार...

आखिर कैसे बना एक शेर मां दुर्गा की सवारी जो अपना आहार बनाने आया था, आइए जाने

ये पूरा संसार मां दुर्गा को शक्ति के रूप में मानता है सिर्फ साधारण मनुष्य ही नहीं बल्कि देवी देवता भी मां दुर्गा की शक्ति की पूजा करते हैं, माता दुर्गा को दुष्टों का नाश करने वाला माना गया है, यह हमेशा दुष्ट-पापियों का नाश करती हैं, मां दुर्गा से जुड़ी हुई ऐसी बहुत सी कहानियां प्रचलित है जिनमें इन्होंने अपनी शक्ति का प्रदर्शन किया है और पूरे संसार को पापियों से बचाया है.
जैसा कि आप सभी लोग जानते हैं माता दुर्गा की सवारी शेर है परंतु आप लोगों ने कभी इस बात पर विचार किया है कि आखिर मां दुर्गा की सवारी शेर कैसे बना? पौराणिक कथाओं के अनुसार देखे तो माता दुर्गा शेर की सवारी करती है परंतु यह सवारी माता दुर्गा को कैसे प्राप्त हुई थी? आखिर ऐसा क्या हुआ था जिसकी वजह से शेर को मां दुर्गा की सवारी बनना पड़ा था? आज हम आपको इसके पीछे की एक बहुत ही रोचक कथा के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं।
धार्मिक पुराणों के अनुसार माता पार्वती ने विश्व के पालनहार भगवान शिव को पाने के लिए बहुत ही कठोर तपस्या की थी। जो हजारों साल चली थी। इस तपस्या से पार्वती को भगवान शिव तो मिल गए, लेकिन तपस्या के प्रभाव से मां सांवली हो गई थी। एक दिन मां पार्वती और भगवान साथ बैठे थे और मजाक में शिव जी ने माता को काली कह दिया जो मां को बहुत ही बुरा लगा और वह कैलाश छोडकर एक वन में चली गई और कठोर तपस्या में लीन हो गई। इस बीच एक भूखा शेर मां पार्वती को खाने की इच्छा से वहां पहुंचा, ले‌किन इसे आप चमत्कार कहिए या कोई लीला।
उस शेर ने देखा कि मां तपस्या कर रही है तो वह वही पर चुपचाप बैठ गया। मां के चेहरें में उस शेर ने ऐसा क्या देखा कि मां की तपस्या में वह कोई विघ्न नही डालना चाहता था कि वह मां को अपना भोजन बना लें, लेकिन शेर वही चुपचाप कई सालों तक बैठा रहा जब तक माता पार्वती तपस्या करती रही। मां ने हठ कर ली थी कि जब तक वह गोरी न हो जाएगी। वह इसी तरह तप करती रहेगी, लेकिन तभी शिव वहां प्रकट हुए और देवी को गोरे होने का वरदान देकर चले गए।
इसके बाद माता गंगा स्नान करनें को गई तो स्नान करते समय माता के अंदर से एक और देवी बाहर निकली और माता पार्वती गोरी हो गई जिसके कारण इनका नाम मां गौरी पड़ा और दूसरी देवी जो काले रूप में थी उनका नाम कौशिकी पड़ा।
जब मां गंगा स्नान कर बाहर निकली तो देखा कि एक शेर वहां बैठा उन्हें बडें ही ध्यान से देख रहा है। साथ ही इस बात का पार्वती मां को आश्चर्य हुआ कि इस शेर ने मेरे ऊपर हमला कर अपना ग्रास नही बनाया। इसके साथ ही मां को पार्वती को पता चला कि यह शेर उनके साथ ही तपस्या में था। जिसका वरदान मां पार्वती ने उसे अपना वाहन बना कर दिया। तब से मां पार्वती का वाहन शेर हो गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here