Home Astrology कभी नहीं होगी धन की कमी ना सन्तान की शंख के बारे...

कभी नहीं होगी धन की कमी ना सन्तान की शंख के बारे में कुछ रोचक बातें, तुरंत जान ले…

भारतीय संस्कृति में शंख (Conch) को महत्त्वपूर्ण स्थान प्राप्त है। जिस घर में महालक्ष्मी शंख की पूजा विधि विधान से होती है वहाँ स्वयं लक्ष्मी जी का वाश होता है। इसकी आवाज़ सुरीली होती है। विद्या क़ी देवी सरस्वती भी शंख धारण करती है। वे स्वयं वीणा शंख कि पूजा करती है। माना जाता है कि इसकी पूजा वा इसके जल को पीने से मंद बुद्धि व्‍यक्ति भी ज्ञानी हो जाता है। आइए जानते हैं शंख के बारे में कुछ रोचक बातें…
1. शंख की आकृति और पृथ्वी की संरचना समान है। नासा के अनुसार शंख बजाने से खगोलीय उर्जा का उत्सर्जन होता है। जो जीवाणु का नाश कर लोगों में उर्जा व शक्ति का संचार करता है।
2. शंख कैल्शियम से निर्मित होता है। इसमें रात को पानी भर के पीने से कैल्शियम की पूर्ति होती है।
3. शंख बजाने से योग की 3 क्रियाएं एक साथ होती है। कुम्भक, रोचक, प्राणायाम। शंख बजाने से हदयाघात, रक्तचाप की अनियमितता, दमा, मदागिन मे लाभ होता है। शंख बजाने से फेफडे पृष्ट होते हैं।
4. शंख मे पानी रखकर पीने से मनोरोगी को लाभ होता है। उत्तेजना कम होती है। शंख की ध्वनि से दिमाग व स्नायु तंत्र सक्रिय रहती है।
5. घर मे शंख बजाने से नकारात्मक उर्जा व अतृप्त आत्माएं निकल जाती है। शंख मे चावल भरकर रखें और लाल कपड़ें मे लपेटकर तिजोरी मे रखें अन्नपूर्णा की कृपा बनी रहती है।
6. शंख को दुकान, मकान, ऑफिस, फैक्ट्री आदि में स्थापित करने से वहां के वास्तु दोष दूर होते हैं तथा लक्ष्मी का वास व व्यवसाय में उन्नति होती है।
7. पूजा स्थान में दक्षिणावर्ती शंख की स्थापना करने से चिरस्थायी लक्ष्मी का वास होता है।
8. कामनापूर्ति हेतु शंख की नर और मादा की जोड़ी की स्थापना करनी चाहिए। कहा जाता है कि गणेश शंख में जल भरकर प्रतिदिन गर्भवती स्त्री को सेवन कराने से संतान स्वस्थ व रोग मुक्त होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here