Home Astrology हमारे पूर्वज क्यों नहीं रात को रखते थे झूठे बर्तन, आपको भी...

हमारे पूर्वज क्यों नहीं रात को रखते थे झूठे बर्तन, आपको भी नहीं पता होगी चौका देने वाली सच्चाई

 

 

 

 

 

हमारे यहां दैनिक कार्यों से जुड़ी भी अनेक परंपराएं बनाई गई है। जैसे सुबह जल्दी उठना, नहाने के बाद ही मंदिर जाना या पूजा करना, शाम के समय सफाई नहीं करना व रात को झूठे बर्तन नहीं छोडऩा आदि। हमारे यहां बनाई गई ऐसी हर एक परंपरा के पीछे कोई ना कोई वैज्ञानिक कारण भी जरूर छूपा होता है। हमारे शास्त्रों के अनुसार रात्रि को झूठे बर्तन छोडऩा निषिद्ध माना गया है। क्योंकि इससे घर की सुख व समृद्धि नष्ट होती है और साथ ही घर में अलक्ष्मी का वास होता है। 
इसके पीछे वैज्ञानिक कारण यह है कि रात को घर में झूठे बर्तन रखने से उन बर्तनों में छोटे-छोटे बैक्टिरिया
जन्म ले लेते हैं और रातभर में इनकी संख्या तेजी से बढऩे लगती है। सुबह इन बर्तनों की सफाई करने पर भी इनमें बैक्टिरिया रह जाते हैं जो बीमारियों का कारण बनते हैं। साथ ही अगर वास्तुशास्त्र के दृष्टीकोण से भी रात्रि को घर में बर्तन रखना शुभ नहीं माना जाता है क्योंकि इससे घर में नकारात्मक ऊर्जा बढऩे लगती है और सकारात्मक ऊर्जा कम होने लगती है। इसलिए ऐसी मान्यता है कि रात को झूठे बर्तन नहीं छोडऩा चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here