Home Ajab Gajab लाखों साल पुरानी इस गुफा की सच्चाई जानकर नासा भी हैरान, आप...

लाखों साल पुरानी इस गुफा की सच्चाई जानकर नासा भी हैरान, आप भी जानिए ऐसा क्या है इस गुफा में

गुफ़ा धरती में ऐसे भूमिगत (ज़मीन से नीचे के) स्थल को कहते हैं जो इतना बड़ा हो कि कोई व्यक्ति उसमें प्रवेश कर सके। अगर ऐसा कोई स्थान इतना छोटा हो कि उसमें केवल एक छोटा जानवर ही प्रवेश कर पाए तो उसे आम तौर से हिन्दी में गुफा की बजाए ‘बिल’ कहा जाता है। यह संभव है कि कोई गुफा समुद्र के पानी के अन्दर भी हो – ऐसी गुफाओं को समुद्री गुफा कहा जाता है।
भारत का इतिहास काफी पुराना है और भारतीय इतिहास में बहुत सारे ऐसे रहस्य छिपे हुए हैं जिसका पता आज तक किसी को नहीं चला है दोस्तों आज हम आपको एक ऐसे ही गुफा के बारे में बताने जा रहे हैं जो लाखों वर्ष पुराना है और दोस्तों इस गुफा की सच्चाई जानकर नासा भी हैरान रह गया है। दोस्तों कहा जाता है कि भगवान भोलेनाथ आज भी अपने परिवार के साथ कैलाश पर्वत में निवास करते हैं।
आपकी जानकारी के लिए बता दें एक मान्यता के अनुसार भगवान भोलेनाथ कैलाश पर्वत में नहीं बढ़ती जम्मू-कश्मीर की एक गुफा में निवास करते हैं। जी हां दोस्तों यह गुफा लोगों के बीच काफी ज्यादा प्रसिद्ध है और लोगों का मानना है कि इस गुफा में भगवान भोलेनाथ निवास करते हैं। दोस्तों इस गुफा को शिवखोड़ी के नाम से जाना जाता है जो एक प्रकार की सुरंग लगती है। इस गुफा के बारे में कहा जाता है कि इसका दूसरा है और सीधा अमरनाथ की गुफा में जाकर खुलता है।
आपकी जानकारी के लिए बता दे भगवान भोलेनाथ का यह चमत्कारी गुफा जम्मू कश्मीर से लगभग 140 किलोमीटर की दूरी पर उधमपुर नामक जगह पर मौजूद है। दोस्तों इस गुफा के अंदर जाने की हिम्मत किसी की नहीं होती है लेकिन बड़ी तादाद में श्रद्धालु यहां पर पहुंचते हैं। लोगों का मानना है कि इस गुफा में जो भी व्यक्ति गया वह कभी भी वापस नहीं लौटा।
दोस्तों इस गुफा के बारे में कहा जाता है कि इस गुफा का दूसरा शोर सीधा अमरनाथ की गुफा में जाकर खुलता है लेकिन यह कितना सच है और कितना झूठ इसके बारे में किसी को ज्यादा मालूम नहीं है क्योंकि इसके भीतर कोई नहीं जाता लेकिन दोस्तों स्थानीय लोगों का कहना है कि पुराने समय में साधु संत लोग इसी गुफा से होकर बाबा अमरनाथ जाते थे।
इस गुफा के बारे में एक खास बात और है कि यह गुफा बहुत ही चमत्कारी माना जाता है। दोस्तों इस गुफा में भगवान भोलेनाथ की एक बर्फ की शिवलिंग अपने आप बनी हुई है जिसके कारण यहां की स्थानीय लोग भगवान भोलेनाथ का आशीर्वाद मानकर उस शिवलिंग की पूजा करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here