Home Ajab Gajab रोज रात को गाय से मिलने आता था तेंदुआ, आप भी सच्ची...

रोज रात को गाय से मिलने आता था तेंदुआ, आप भी सच्ची कहानी को जानकर रह जाएंगे हैरान

तेन्दुआ पैन्थरा जीनस का एक विडाल (बड़ी बिल्ली प्रजाति) है जो अफ़्रीका और एशिया में पाया जाता है। यह विडाल प्रजातियों जैसे शेर, बाघ और जैगुअर की तुलना में सबसे छोटा होता है। लेकिन तेंदुए बहुत शक्तिशाली और चतुर जीव है और इनकी एकाग्रता तो लाज़वाब होती है। शिकार को पकड़ने की तकनीक और हमला करने की शैली इन्हें एक अव्वल दर्जे का शिकारी बनाती है। आमतौर पर ये निशाचरी होते हैं। तेंदुए 56 से 60 किमी प्रति घण्टे की रफ़्तार से दौड़ सकते हैं।

अभी तक आपने ऐसी कई खबरें पढ़ी और सुनी होंगी जिसमें एक तेंदुए ने गांव में घुसकर गांव वालों को और उनके पालतू पशुओं को अपना शिकार बनाता है. कई बार ये भी यह भी सुना गया है कि तेंदुए ने गाय का शिकार किया है. लेकिन शायद ही आपने ऐसी खबर सुनी हो जिसमें एक तेंदुए को गाय से एक मां की तरह प्यार मिला हो और तेंदुआ अपनी मां से मिलने रोज आता हो. हैरान मत होईए, यह सच है. सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है जिसमें एक तेंदुआ को गाय के साथ देखा जा रहा है और वो गाय के साथ ऐसे बैठ है जैसे वो उसका बछड़ा हो.
सोशल मीडिया साइट ट्वटिर पर आईएफएस अफसर सुशांत नंदा नामक ट्विटर अकाउंट से एक फोटो को शेयर किया गया है, जिसमें एक तेंदुआ और गाय एक साथ बैठी हुई दिखाई दे रही हैं. इस फोटो को शेयर करते हुए नंदा ने लिखा, शिकार और शिकारी साथ में, दोनों एक दूसरे को गले लगाते हुए. कई रात तक यह एक तेंदुआ इस गाय से मिलने आता था, जिसे यह गाय अपने बच्चे की तरह पालती थी.” इस ट्वीट में उन्होंने साफ किया है कि यह तस्वीर काफी पुरानी है.
टाइम्स ऑफ इंडिया कि एक रिपोर्ट के अनुसार, यह फोटो साल 2002 की है और गुजरात के एक अंतोली गांव की है. बताया जाता है कि जब सभी गंवा वाले सो जाया करते थे तब यह तेंदुआ गाय से मिलने आया करता था. तेंदुआ जब आया करता था तो गांव के कुत्ते भोकने लगते थे. तेंदुआ तब आता था तो गाय उसकी गर्दन और उसकी कान को ऐसी चाटती थी जैसे वो उसका ही बच्चा हो. इतना ही नहीं यह भी कहा जाता है कि तब तेंदुआ, गाय के पास आकर बैठता था तो कुछ दूरी पर ही बंधी बकरियां और अन्य जानवर भी बंधे होते थे लेकिन तेंदुआ किसी को कोई नुकसान नहीं पहुंचाता था. कहा जाता है कि वो कुछ देर गाय के साथ बैठता था और फिर वापल जंगल चला जाता था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here