Home Lifestyle महिलाएं सिंदूर लगाते समय हमेशा ध्यान रखें इन बातों को, नहीं तो...

महिलाएं सिंदूर लगाते समय हमेशा ध्यान रखें इन बातों को, नहीं तो जिंदगी भर पछतावा रहेगा

सिन्दूर एक लाल या नारंगी रंग का सौन्दर्य प्रसाधन होता है जिसे भारतीय उपमहाद्वीप में महिलाए प्रयोग करती हैं। हिन्दू, बौद्ध, जैन और कुछ अन्य समुदायों में विवाहित स्त्रियाँ इसे अपनी माँग में पहनती हैं। इसका प्रयोग बिन्दियों में भी होता है। हिंदू धर्म की मान्यता के अनुसार सिंदूर को सुहागिन महिलाओं के सुहाग का प्रतीक माना जाता है। विवाह के समय भी सिंदूरदान की विधि का भी एक खास महत्व होता है, इसके बाद ही विवाह की विधि को पूर्ण माना जाता है। और एक बार विवाह हो जाने के पश्चात सभी सुहागिन महिलाओं का सिंदूर लगाना अनिवार्य होता है।

सिंदूर लगाते समय महिलाएं:
शादीशुदा महिलाओं को सदैव सिंदूर अपने पैसे से खरीद कर लगाना चाहिए। किसी अन्य के पैसे से खरीदा गया सिंदूर लगाने से बचना चाहिए। # चाहे कितनी भी बड़ी मजबूरी हो परंतु शादीशुदा महिलाओं को किसी दूसरी महिला के सिंदूर को अपने मांग में भरने से बचना चाहिए। किसी दूसरी महिला के सिंदूर को मांग में भरना बहुत ही अशुभ होता है। # सुहागिन महिलाओं को उपहार में मिले सिंदूर का उपयोग करने से बचना चाहिए। क्योंकि शास्त्रों में उपहार मिले सिंदूर का उपयोग करना अशुभ माना गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here