Home Ajab Gajab मकड़ा और मकड़ी को भगाने के 4 ऐसे उपाय, जिनके जरिए घर...

मकड़ा और मकड़ी को भगाने के 4 ऐसे उपाय, जिनके जरिए घर से बिल्कुल समाप्त हो जाएंगे मकड़ा मकड़ी

सामान्य तौर पर घर में पाई जाने वाली मकड़ियां जहरीली नहीं होती है। मकड़ियों के डंक मारने वाले दांत तो होते हैं जिनसे डंक मारकर वह कीट पतंगों को मार देती है लेकिन इनके दांत इंसान की त्वचा को नहीं भेद पाते। घरेलु मकड़ी का विष भी हमारे लिए ज्यादा नुकसानदेह नहीं होता है।मकड़ियों की बहुत कम प्रजाति ऐसी होती है जिनका विष घातक हो सकता है।  इनमें ब्लेक विडो , ब्राउन रेकलुस , होबो स्पाइडर नामक मकड़ीयां खतरनाक हो सकती हैं। आइए जानें मकड़ा मकड़ी भगाने के उपाय

करें इन उपायों को मकड़ा मकड़ी कभी नहीं आएंगे घर में

पिपरमिंट के तेल से मकड़ी भगाने का तरीका 

मकड़ियां पीपरमिंट से सख्त नफरत करती हैं। इसका उपयोग स्पाइडर को दूर करने के लिए किया जा सकता है। इसके लिए तीन कप पानी स्प्रे बोतल में भर लें। इसमें एक चम्मच बर्तन धोने का लिक्विड मिला दें , इससे स्प्रे सब जगह अच्छे से हो जाता है। इसमें एक चम्मच पीपरमिंट का तेल मिला लें। बोतल को हिला कर इन्हे मिला लें। इसे Makdi वाली जगह स्प्रे कर दें। कुछ दिन लगातार दिन में एक बार स्प्रे कर दें। स्पाइडर से मुक्ति मिल जाएगी।पिपरमिंट के तेल में भीगी रुई दरवाजे और खिड़की के पास रखने से भी मकड़ी का आना बंद हो जाता है। पुदीना का पौधा जहॉं होता है वहां भी मकड़ी नहीं आती। अतः हो सके तो छोटे गमले में पुदीना के पौधे लगाकर रखें। आस पास स्पाइडर नहीं आएगी।

सफ़ेद सिरका

सफ़ेद सिरका और पानी बराबर मात्रा में मिलाकर स्प्रे बोतल में भरकर मकड़ी के जाले बनाने वाली जगह और उसके आने वाली जगह पर छिड़क दें। मकड़ी के छुपे होने की संभावना वाली जगह भी इसे छिड़क दें। इसे सीधा मकड़ी पर भी स्प्रे किया जा सकता है। इससे मकड़ी मर जाती है। दिन में एक बार इसका छिड़काव कुछ दिन करने से Makdi से मुक्ति मिल सकती है। सिरका के अन्य कई घरेलु उपयोग जानने के यहाँ क्लिक करें।

नींबू या संतरे के छिलके

स्पाइडर को सिट्रस चीजों की गंध नापसंद होती है। नींबू या संतरे के छिलके आदि की मदद से Makdi का आना रोका जा सकता है।

नीलगिरी का तेल

स्प्रे बोतल में पानी भरकर इसमें आधा चम्मच नीलगिरी का तेल मिला दें। इसे स्पाइडर वाली जगह स्प्रे कर दें। दरार आदि में अच्छे से स्प्रे करें। कोने में एक दो बूँद तेल बिना पानी मिलाये डाल सकते हैं। इससे मकड़ी दूर रहती है। अलमारी की दराज में नीलगिरी की पत्तियाँ रखने से भी मकड़ी के जाले नहीं बनते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here