Home Ajab Gajab भारत के 5 ऐसे जांबाज पुलिस ऑफिसर जिनका नाम सुनते ही गुंडों...

भारत के 5 ऐसे जांबाज पुलिस ऑफिसर जिनका नाम सुनते ही गुंडों के छूट जाते हैं पसीने, आइए जाने

पुलिस एक सुरक्षा बल होता है जिसका उपयोग किसी भी देश की अन्दरूनी नागरिक सुरक्षा के लिये ठीक उसी तरह से किया जाता है जिस प्रकार किसी देश की बाहरी अनैतिक गतिविधियों से रक्षा के लिये सेना का उपयोग किया जाता है।
आज हम आपको हमारी पोस्ट के माध्यम से भारत देश के 5 जांबाज पुलिस अफसरों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनकी बहादुरी के चर्चे दूर-दूर तक है। दोस्तों इन बहादुरों अक्षरों में कुछ महिला अफसर भी शामिल है। बता दे किये जांबाज़ पुलिस अफसर अपनी ईमानदारी और जांबाजी के लिए जाने जाते हैं। आपको बता दें कि इनमें से कईयों का तो बहुत बार तबादला भी हुआ है, लेकिन जगह चाहे यूपी की हो या दिल्ली की इन्होंने हर जगह अपनी निडरता से अपराधियों के रोंगटे खड़े कर दिए हैं। आइए दोस्तों विस्तार से जानते हैं इन पुलिस अफसरों के बारे में।
1.शिवदीप लांडे
दोस्तो शिवदीप बिहार के एक ऐसे पुलिस कर्मी हैं, जो जहां भी जाते हैं अपराधियों की वाट लगा देते हैं। शिवदीप ने बिहार के कई बड़े कालाबाजारियों जैसे बालू माफिया, खनन माफियाके खिलाफ़ आगे बढ़कर उन्हें पकड़ने में सरकार की मदद की थी। बता दे कि शिवदीप 2006 से पुलिस में हैं और महाराष्ट्र के अकोला के रहने वाले हैं। दोस्तो शिवदीप लांडे का नाम सुनते ही महाराष्ट्र की पुलिस में एक अलग ही जोश आ जाता है।
2.मनु महाराज
दोस्तो रियल लाइफ़ सिंघम के नाम से मशहूर मनु महाराज भी शिवदीप लांडे की तरह ही 2006 से पुलिस में भर्ती हैं।बता दे कि मनु अपने सभी बडे ऑपरेशन में खुद हथियार लेकर लीड करते हैं। दोस्तों मनु ने बिहार के कई बड़े अपराधियों को पकड़ा है।
3.डी रूपा
दोस्तो डी रूपा वही पुलिस अफसर हैं, जिन्होंने शशिकला को जेल में मिलने वाली विशेष सुविधा का पर्दाफाश किया था। बता दे कि साल 2016 में उन्हें राष्ट्रपति मेडल से पुरस्कृत किया गया था। दोस्तो डी रूपा सत्ताधारियों के खिलाफ अपने अभियानों को लेकर हमेशा से चर्चा में रही हैं। शशिकला केस के बाद उन्हें परिवाहन विभाग में ट्रांसफर कर दिया गया था। डी रूपा को फिमेल पुलिस कर्मियों के लिए एक बडी मिसाल माना जाता है और उन्हें कई लोग लेडी सिंघम के नाम से भी बुलाते हैं।
4.संजुक्ता पराशर
दोस्तो असम के बोडो आतंकवादियों के लिए बनी काल का दूसरा नाम संजुक्ता पराशर साल 2006 बैच की आईपीएस अफसर हैं। वे असम में नियुक्त होने वाली पहली महिला आईपीएस भी हैं। संजुक्ता ने बहुत ही कम समय में असम के बोडो आतंकवादियों के खिलाफ़ अभियान चलाकर बडी सफलता हासिल की है।
5.अनन्त देव तिवारी
दोस्तो देश के सबसे खतरनाक पुलिस अफसार माने जाने वाले अनन्त देव तिवारी ने आज तक 100 से ज्यादा एनकाउंटर कर रखे हैं। बता दे कि अनन्त को साल 2006 में प्रमोशन देकर आईपीएस की अवाधि दी गई थी, जिन्हें उन्होंने भाखूबी निभाया। दोस्तो साल 2007 में उन्होंने कुख्यात डकैत ददुआ को मार गिराया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here