Home Astrology नारद पुराण के अनुसार इन चीजों को स्पर्श किया तो जरूर नहाए,...

नारद पुराण के अनुसार इन चीजों को स्पर्श किया तो जरूर नहाए, वरना हो सकता है भारी नुकसान, सुरक्षित रहना है तो एक बार जरूर जाने

नारद पुराण या ‘नारदीय पुराण’ अट्ठारह महुराणों में से एक पुराण है। यह स्वयं महर्षि नारद के मुख से कहा गया एक वैष्णव पुराण है। महर्षि व्यास द्वारा लिपिबद्ध किए गए 18 पुराणों में से एक है। नारदपुराण में शिक्षा, कल्प, व्याकरण, ज्योतिष, और छन्द-शास्त्रोंका विशद वर्णन तथा भगवान की उपासना का विस्तृत वर्णन है।

दुनिया में हर व्यक्ति की ख्वाहिश होती है कि वह तरक्की करें और सफलता की ऊँचाइयों को छुए। इंसान की मेहनत और भगवान की कृपा के चलते यह काम आसान हो जाता हैं। लेकिन व्यक्ति जाने-अनजाने में कुछ ऐसी गलतियां कर बैठता हैं, जिनका व्यक्ति की सफलता पर दुष्परिणाम होता हैं। आज हम आपको नारद-पुराण से जुडी कुछ ऐसी ही बातें बताने जा रहे हैं जिसमें कुछ चीजों के स्पर्श मात्र से ही अवनति का मार्ग प्रशस्त होने लगता हैं। इसलिए इन चीजों को जाने-अनजाने में भी स्पर्श नहीं करना चाहिए। तो आइये जानते हैं नारद पुराण में वर्णित उन अस्पर्शिय अशुभ चीजों के बारे में..
अंतिम संस्कार
जब आप किसी के अंतिम संस्कार में शामिल होते हैं तो वहां किसी अपवित्र या अशुभ चीज को छूना, जैसे मृत व्यक्ति की हड्डी या दाह संस्कार से निकलने वाले धुओं से दूर रहना चाहिए। आपको नकारात्मक ऊर्जा का शिकार बनाती है और आप दुर्भाग्य के साए में चले जाते हैं।
भोजन
भोजन को कभी भी जमीन पर नहीं गिराना चाहिए और यदि वो जमीन पे गिरा हो तो ध्यान रहे कभी भी उसपे पैर न रखें। उसे हटाके डस्टबिन या पानी में बहा दें।
कुत्ता
अगर आप किसी शुभ कार्य के लिए जा रहे हैं और जाने से पहले ही कोई कुत्ता आपको छू लेता है तो यह बहुत बुरा संकेत माना जाता है। नारद पुराण के अनुसार यह आपके जीवन में आने वाली निर्धनता और दरिद्रता का सूचक है।
गन्दी झाड़ू
घर को साफ करते वक्त हमने देखा होगा की घर में माँ हमेशा बोलती है झाड़ू को पैर न लगाओ। क्योंकि गन्दी झाड़ू को स्पर्श करना अशुभ माना गया है।
चटाई
चटाई से उड़कर आने वाला जल भी शरीर को अशुद्ध कर देता है। इसलिए ऐसा होने पर व्यक्ति को स्नान कर लेना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here