Home Entertainment नहीं पता होगा आपको अमिताभ बच्चन का कादर खान को बर्बाद करने...

नहीं पता होगा आपको अमिताभ बच्चन का कादर खान को बर्बाद करने का सच, आइए आज जान ले…..l

अमिताभ बच्चन बॉलीवुड के सबसे लोकप्रिय अभिनेता हैं। ये प्रसिद्ध हिन्दी साहित्यकार हरिवंश राय बच्चन के सुपुत्र हैं। 1970 के दशक के दौरान उन्होंने बड़ी लोकप्रियता प्राप्त की और तब से भारतीय सिनेमा के इतिहास में सबसे प्रमुख व्यक्तित्व बन गए हैं। अमिताभ ने अपने करियर में अनेक पुरस्कार जीते हैं, जिनमें दादासाहेब फाल्के पुरस्कार, तीन राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार और बारह फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार सम्मिलित हैं। उनके नाम सर्वाधिक सर्वश्रेष्ठ अभिनेता फ़िल्मफेयर अवार्ड का रिकार्ड है। अभिनय के अलावा बच्चन ने पार्श्वगायक, फ़िल्म निर्माता, टीवी प्रस्तोता और भारतीय संसद के एक निर्वाचित सदस्य के रूप में 1984 से 1987 तक भूमिका निभाई हैं।
आज हम आपको इसी से जुड़ा एक ऐसा किस्सा बताने जा रहे है जिसमें सदी के महानायक अमिताभ बच्चन का अहम किरदार रहा है।
ये किस्सा उस शख्स का है जिसने एक समय में ना सिर्फ कई सुपरहिट फिल्मों के लिए डायलॉग लिखे बल्कि कई सुपरहिट फिल्मों में अपने अभिनय से लोगों का दिल भी जीत लिया था। हम बात कर रहे है दिवंगत लेखक और अभिनेता कादर खान की।
31 दिसंबर 2018 के दिन इस दुनिया को अलविदा कह चुके कादर खान आज भले ही हमारे बीच नहीं रहे, मगर बॉलीवुड को दिए उनके योगदान को सदियों तक भुलाया नहीं जा सकता है। कादर ख़ान उन चंद हुनरमंदों में शुमार होते हैं, जिनमें बहुमुखी प्रतिभा के धनी होते हैं।
अपने पांच दशकों से ज़्यादा लम्बे करियर में कादर ख़ान ने तक़रीबन हर तरह के किरदार को पर्दे पर पेश किया, विलेन बने, कॉमेडी की और चरित्र रोल भी निभाये। मगर, उनकी सबसे अधिक चर्चा उनके ख़ास तरह के संवादों के लिए होती है, जिनमें वक़्त और दौर की ज़रूरत के साथ ज़िंदगी का एक फलसफा छिपा रहता था। भूख, ग़रीबी, भ्रष्टाचार पर एक टिप्पणी होती है।
साल 1973 में राजेश की फिल्म ‘दाग’ से बॉलीवुड की फिल्मों में अभिनय की शुरुवात करने वाले कादर खान को अभिनेता राजेश खन्ना ने ही अपनी फिल्म ‘रोटी’ के डायलॉग लिखने का मौका दिया था। करीब 300 से भी ज्यादा फिल्मों में अभिनय करने और करीब 250 से भी ज्यादा फिल्मों के लिए डायलॉग लिखने वाले कादर खान के जीवन में एक ऐसा समय भी आया था जब उन्हें कोई काम नहीं दे रहा था और जो काम उनके पास पहले से था उसे भी छीन लिया गया। इसकी वजह कोई और नहीं बल्कि सदी के महानायक अमिताभ बच्चन थे।
वैसे तो अमिताभ बच्चन और कादर खान ने एक साथ कई फिल्मों के लिए काम किया है और अमिताभ बच्चन को सदी का महानायक बनाने में कादर खान का बहुत बड़ा योगदान रहा है। अमिताभ के बाद कादर खान ऐसे शख्स थे जिन्होंने मनमोहन देसाई और प्रकाश मेहरा इन दोनों के साथ किया था।
कादर खान ने कुली, देश प्रेमी, सुहाग, परवरिश, मिस्टर नटवरलाल, अमर अकबर एंथोनी, शराबी, लावारिस, मुकद्दर का सिकंदर, खून पसीना, दो और दो पांच, सत्ते पे सत्ता, इंकलाब, गिरफ्तार, हम और अग्निपथ जैसी फिल्मों के लिए डायलॉग लिखे थे।
कादर खान ने इंटरव्यू के दौरान बताया था कि एक दक्षिण भारत के निर्माता ने उन्हें अपनी फिल्म में डायलॉग राइटर का काम के लिए बात करने के लिए बुलाया था। उस निर्माता ने कादर खान को कहा कि ‘आप जाकर सर जी से मिल लो।’ इस पर कादर खान के पूछे जाने पर कि ‘ये सर जी कौन है’, तो उस निर्माता ने अमिताभ बच्चन की ओर इशारा करते हुए कहा कि ‘क्या आप सर जी को नहीं जानते? अरे अमिताभ बच्चन।’ कादर खान ने ये सुनते ही उस निर्माता से पूछ लिया कि ‘ये सर जी कब से हो गए?’
फिल्म इंडस्ट्री के सभी लोगों ने तब तक अमिताभ बच्चन को ‘सर जी’ कहकर बुलाना शुरू कर दिया था। कादर खान ने साफ़ कह दिया था कि ‘मैं अमिताभ को अमित कहकर ही बुलाता हूं और दोस्तों को घरवालों को कभी भी इस तरह से संबोधित नहीं किया जाता है।’
कादर खान के मुताबिक अमिताभ बच्चन को सर जी कहने से इनकार कर देना और कादर खान के लिए मुसीबतों को बुलावा भेज देने जैसा हो गया। कादर खान अमिताभ की ही फिल्म ‘गंगा जमुना सरस्वती’ के लिए संवाद लिख रह थे जो कि आधी लिखने के बावजूद उन्हें छोड़नी पड़ी। अमिताभ की ही फिल्म ‘खुदा गवाह’ से उन्हें निकाल दिया गया। और भी ऐसी कई सारी फ़िल्में थी जो कादर खान कर रहे थे उन सब निर्माताओं ने इनसे ये सारे काम छीन लिए गए।
कादर साहब ने अमिताभ बच्चन को सर जी कहने से इनकार कर दिया, क्यूंकि वो दोस्ती इतनी गहरी थी कि कादर खान को ये लगता था कि दोस्ती यारी में सर जी कहना सही नहीं है, मगर यक़ीनन कादर साहब ने ये कभी नहीं सोचा होगा कि जिस शख्स को वो अपना सबसे गहरा दोस्त बता रहे है, शायद वो दोस्ती, स्टारडम के आगे छोटी पड़ गयी। जिसका नतीजा ये हुआ कि जीवन के आखिरी समय तक उनके पास करने को कोई काम ना मिला।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here