Home Ajab Gajab चारों बहनों के सिर से उठ गया था पिता का साया उसके...

चारों बहनों के सिर से उठ गया था पिता का साया उसके बाद चारों बहनों ने जमकर की पढ़ाई और हो गई पुलिस में भर्ती, चारों बहनों की संघर्षपूर्ण कहानी

आगरा के रैपुरा अहीर रुकता गांव की रहने वाली मचला देवी की चार बेटियां सुनीता, रंजीता, कुंती, अंजलि और एक बेटा धीरज कुमार है। सुनीता ने बताया कि पिता वीरेंद्र सिंह का वर्ष 2002 में स्वर्गवास हो गया था। पिताजी का जब निधन हुआ था, तब चारों बहनें छोटी थीं, भाई काफी छोटा था। मां के सपने को साकार करने वह अलीगढ़ आ गईं। यहां क्वार्सी एटा बाईपास में रहकर पुलिस सेवा में जाने की तैयारी करने लगी थी। मां के आशीर्वाद और कड़ी मेहनत की बदौलत 2016 में यूपी पुलिस में कांस्टेबिल के पद पर चयन हो गया।

सुनीता ने बताया कि इसके बाद तीनों बहनों ने अलीगढ़ में तैयारी करके पुलिस महकमे में कांस्टेबिल बनीं। हाल ही में भाई धीरज का भी पीएसी में चयन हुआ है। अभी उसकी ट्रेनिंग होनी है। सुनीता ने कहा कि इस सफलता के पीछे कैप्टन आसीन खान की विशेष भूमिका रही, जिन्होंने तैयारी करने में मदद की। वर्तमान में सुनीता की बरेली जिले के थाना किला में तैनाती है, जबकि रंजीता की फतेहपुर जिले के मलवा थाने में, इसी जिले के थाना हुसैनगंज में कुंती व अंजलि की तैनाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here