Home Astrology क्या लिखा है आपके भाग्य में, जिस भगवान के आप हैं सच्चे...

क्या लिखा है आपके भाग्य में, जिस भगवान के आप हैं सच्चे भक्त उनका नाम लेकर खोलिए अपने भाग्य का ताला

भगवान गुण वाचक शब्द है जिसका अर्थ गुणवान होता है। यह “भग” धातु से बना है ,भग के 6 अर्थ है:- 1-ऐश्वर्य 2-वीर्य 3-स्मृति 4-यश 5-ज्ञान और 6-सौम्यता जिसके पास ये 6 गुण है वह भगवान है।
संस्कृत भाषा में भगवान “भंज” धातु से बना है जिसका अर्थ हैं:- सेवायाम् । जो सभी की सेवा में लगा रहे कल्याण और दया करके सभी मनुष्य जीव ,भूमि गगन वायु अग्नि नीर को दूषित ना होने दे सदैव स्वच्छ रखे वो भगवान का भक्त होता है |
दोस्तों आज हम आपको और आपके भाग्य के बारे में कुछ शुभ जानकारी देने जा रहे हैं। इन 3 भगवानों में से किसी एक को साक्षी मानकर अपना राशिफल देख सकते हैं। आइए जानते हैं आपके भाग्य में क्या लिखा है।
1- बजरंगबली जी
आपकी आर्थिक आपकी आर्थिक स्थिति में सुधार आएगा। आपकी सामाजिक मान सम्मान और प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। अगर आप नया वाहन या घर खरीदना चाहते हैं तो यह समय आपके लिए शुभ रहेगा। आपका पारिवारिक जीवन आनंदमय और खुशहाल रहेगा। अविवाहित जातकों को विदेश से विवाह का रिश्ता आ सकता है। आप अपने लव पार्टनर के साथ किसी रोमांटिक जगह पर घूमने जा सकते हैं। आपकी लव लाइफ रोमांटिक और रंगीन रहेगी।
2- गणेश जी
आपका रुका हुआ पैसा आपको वापस मिल सकता है। आपको सभी कार्यों में सफलता प्राप्त होगी। आपके जो भी काम रुके हुए हैं अब वह कार्य सफलतापूर्वक पूरे होने वाले हैं। आपको किसी पुरानी बीमारी से छुटकारा मिल सकता है। आपके घर परिवार में खुशी का माहौल बना रहेगा। व्यापारियों को व्यापार में बड़ा धन लाभ प्राप्त होने वाला है। आपको अपने लव पार्टनर की ओर से बड़ी खुशखबरी मिलने वाली है। आप अपने अच्छे व्यवहार से लोगों का दिल जीत लेंगे।
3- विष्णु जी
आपका वैवाहिक जीवन अच्छा रहने वाला है। नौकरी पेशा वाले जातकों को नौकरी में पदोन्नति मिल सकती है। संतान पक्ष की ओर से आपको बड़ी खुशखबरी मिलने वाली है। जो लोग सच्चे प्यार की तलाश कर रहे हैं अब उनकी तलाश पूरी होने वाली है। आपके बच्चे आगे चलकर समाज में आपका नाम रोशन करेंगे। आपको जीवन में आगे बढ़ने के अनेक अवसर प्राप्त होंगे। आपका पारिवारिक जीवन आनंदमय और खुशहाल रहेगा। आपको अपने जीवनसाथी का भरपूर प्यार और सहयोग मिलेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here