Home Ajab Gajab आखिर ब्लेड के बीच में क्यों होती है स्पेशल डिजाइन, तुरंत जाने...

आखिर ब्लेड के बीच में क्यों होती है स्पेशल डिजाइन, तुरंत जाने वजह

ब्लेड, जो भाग-पिशाच और भाग-नश्वर है, मानव की रक्षा के लिए पिशाच शिकारी बन जाता है। वह पिशाचों को मानव जाति पर नियंत्रण करने से रोकता है।
ट्रेन के पीछे क्रॉस का निशान, टूथपेस्ट में नीचे की तरफ लेवल यहां तक रोज पढ़ने वाले न्यूजपेपर में नीचे रंग-बिरंगी बंदियों के बारे में बहुत से लोग नहीं जानते हैं, जबकि लोग इन चीजों को हर रोज इस्तेमाल करते हैं. वेशक आप बहुत बुद्धिमान हैं लेकिन कभी-कभी ऐसे सवाल आपके दिमाग को भी हिला सकते हैं, या फिर इन सवालों से आप सामने वाले व्यक्ति का दिमाग भी हिला सकते हैं. जी हां…मनोरंजन के लिए ही सही, कभी-कभी ये सवाल आपका ज्ञान दोगुना कर देते हैं. आज हम आपको बताने ब्लेड के बीच की डिजाइन के बारे में बताने जा रहे हैं जो शायद ही 1 प्रतिशत लोगों को पता हो…
यकीन ना हो तो आप खुद ही अपने आसपास के लोगों से ब्लेड के बीच में बनी खास डिजाइन का मतलब पूछ लीजिए. अगर वो जबाव बता देता तो उसको सलाम है. ज्यादातर लोगों के घरों में अक्सर पहले के लोग ब्लेड से सेविंग करते होंगे. यहां फिर किसी ना किसी वजह से ब्लेड घर में आ जाता होगा. अगर ब्लेड नहीं भी आता है तब किसी भी कंपनी का खरीद लें सभी में आपको एक ही डिजाइन मिलेंगी. कभी सोचा है कि आखिर एक ही डिजाइन क्यों होती है.
बता दें सबसे पहले जिलेट ने ब्लू जिलेट ब्लेड नाम से जिलेट ब्लेड का उत्पादन किया था जो मर्दों के लिए उनकी शेव करने की समस्या का एक हमेशा का इलाज बन गया था. बताया जाता है कि ब्लेड के आविष्कार के पीछे बड़ी ही रोचक0 कहानी है. साल 1901 में जिलेट कंपनी के संस्थापक किंग कैंप जिलेट ने अपने के सहयोगी विल्लियम निकर्सन के साथ मिलकर ब्लेड का ख़ास डिज़ाइन तैयार किया था. इसी साल ब्लेड के डिज़ाइन को पेटेंट कराया. 1904 के समय जिलेट ने पहली बार 165 ब्लेड बनाये थे.
उस समय जिलेट ब्लेड शेविंग के लिए ही बनाए जाते थें, उनकी डिजाईंनिंग इस तरह की जाती थी कि वे शेविंग करने वाले जिलेट में बोल्ट के साथ फिट किया जा सके इसलिए उसके बीच खाली स्पेस छोड़ी जाती थी, ताकि, इसके कैप की फिटिंग एक समान रहे और इस्तेमाल करने वालों को हर कंपनी के ब्लेड के साथ उसका कवर ना खरीदना पड़े.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here