Home Ajab Gajab यहां मनाया जाता है पीरियड्स का त्यौहार, वजह जानेंगे तो उड़ जाएंगे...

यहां मनाया जाता है पीरियड्स का त्यौहार, वजह जानेंगे तो उड़ जाएंगे होश

महिलाओं को अक्सर कई तरह के परेशानियों का सामना करना पड़ता है जीवन में कई ऐसी परेशानी आती है जो महिला को सहनी पड़ती है खासकर उन दिनों जब महिला पीरियड्स में होती है तो उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है पीरियड्स के दिनों में महिलाओं के साथ बुरा व्यवहार भी किया जाता है इससे कई महिलाएं है जो पीरियड्स के दिनों में अपमान सहती हैं उन्हें कई तरह से अपमानित किया जाता है परेशान किया जाता है या फिर उनके साथ बुरा व्यवहार किया जाता है जिसका महिलाओं की सोच पर बुरा असर पड़ता है.
यह कोई बीमारी नहीं है और यह कोई परेशानी भी नहीं है यह तो महिलाओं में होने वाले हार्मोन्स बदलाव के कारण होता है पीरियड्स के दिनों में महिलाओं के हार्मोन्स में बदलाव होता है जिससे वह मां बनने का सुख प्राप्त करती है लेकिन इन परेशानियों के बीच भी ऐसे कई शहर भी है जहां महिलाओं के पीरियड्स को लेकर जश्न मनाया जाता है और उत्सव मनाया जाता है महिलाओं के पीरियड्स को लेकर मनाए जाने वाले इस त्योहार को राजा फेस्टिवल के नाम से जाना जाता है लोग इससे रोजों के नाम से भी जानते हैं और यह त्यौहार उनके 3 दिन तक मनाया जाता है इस त्यौहार को अन्य दूसरे त्योहारों के जैसे ही धूमधाम से इस त्यौहार को भी धूमधाम से मनाते हैं
पीरियड्स में महिलाओं हो रहे अत्याचार को ध्यान में रखकर इस त्यौहार को मनाया जाता है ताकि महिलाओं पर हो रहे उन दिनों अत्याचार को कम किया जा सके और मासिक धर्म धर्म की प्रवत्ति का संतुलन बनाया जा सके जिसके चलते यह त्योहार मनाया जाता है कहा जाता है कि जिस तरह धरती हम सभी का बोझ रहती है उसी तरह उतना ही दुख और दर्द महिलाएं मां बनने के समय उठाती है जब महिलाओं को पीरियड्स आते हैं उसके बाद ही महिलाएं मां बनने का सुख प्राप्त करती है
पीरियड्स में महिलाओं के शरीर में आने वाले बदलाव का पूर्ण रुप से स्वागत किया जा सके ताकि पीरियड्स के बाद जब हमवह माँ बने तो उनके मन में किसी भी तरह का कोई संदेह ना हो इस त्यौहार में महिलाओं के साथ पुरूष भी बढ़ चढ़कर हिस्सा लेते हैं जिसके चलते घरों को सजाया जाता है और इस त्यौहार में कई तरह के खेलों का आयोजन भी किया जाता है इस त्यौहार के चलते यहां पर एक नियम भी बनाया गया है कि इन त्योहारों के बीच फूल तोड़ना सख्त मना होता है इस फेस्टिवल के बाद किसान अपनी धरती को स्नान भी करवाते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here