Home Uncategorized SBI ग्राहकों के लिए आई बुरी खबर! अगर आपका बैंक में जमा...

SBI ग्राहकों के लिए आई बुरी खबर! अगर आपका बैंक में जमा है बहुत ढेर सारा रुपया तो सिर्फ इतना रुपया ही है सुरक्षित, जाने कैसे

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (State Bank of India / SBI) भारत की सबसे बड़ी एवं सबसे पुरानी बैंक है।
2 जून 1806 को कलकत्ता में ‘बैंक ऑफ़ कलकत्ता’ की स्थापना हुई थी। तीन वर्षों के पश्चात इसको चार्टर मिला तथा इसका पुनर्गठन बैंक ऑफ़ बंगाल के रूप में 2 जनवरी 1809 को हुआ। यह अपने तरह का अनोखा बैंक था जो साझा स्टॉक पर ब्रिटिश भारत तथा बंगाल सरकार द्वारा चलाया जाता था।
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) के ग्राहकों के लिए यह अच्छी खबर है कि डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (DICGC) स्कीम के तहत अब ग्राहकों के 5 लाख रुपए पूरी तरह सुरक्षित (Insured) रहेंगे। SBI में सभी तरह के डिपॉजिट कुछ सीमाओं और शर्तों के साथ इस स्कीम के तहत पूरी तरह सुरक्षित रहेंगे। पहले अधिकतम 1 लाख रुपए तक ही राशि सुरक्षित रहती थी।
SBI ने एक ट्वीट कर बताया कि DICGC स्कीम के तहत ग्राहकों के सेविंग्स, करंट अकाउंट, फिक्स डिपॉजिट और रिकरिंग डिपॉजिट में पड़े 5 लाख रुपए कुछ सीमाओं और शर्तों के साथ पूरी तरह से सुरक्षित हैं।
इस 5 लाख रुपए तक की इंश्योर्ड राशि में प्रिंसिपल अमाउंट और ब्याज शामिल होगा। पहले यह राशि 1 लाख तक ही होती थी।
इस राशि में बैंक के परिसमापन/बैंक के लाइसेंस रद्द करने की तारीख या जमा करने की तारीख या उस तिथि पर बैंक द्वारा जमा की गई मूलधन और ब्याज राशि दोनों शामिल हैं, जिस पर अमल/विलय/पुनर्गठन की योजना लागू होती है।
देश के सबसे बड़े बैंक SBI ने सोमवार को ब्याज दरों में कटौती की घोषणा की थी। SBI ने मार्जिनल कॉस्‍ट ऑफ फंड लेंडिंग रेट यानी MCLR में 0.25 फीसदी की कमी की घोषणा कर इसे 7 प्रतिशत कर दिया। यह कटौती सभी तरह की अवधि के लोन लिए की गई है। इससे पहले यह दर एक साल के लिए 7.25 फीसदी थी। साथ ही SBI ने अपने बेस रेट में भी कमी का ऐलान किया है। यह दर अब 8.15 फीसदी से घटकर 7.40 फीसदी रह गई है। बैंक ने इसमें 75 बेसिक प्वाइंट की कमी की। ये सभी नई दरें 10 जून 2020 से लागू हो गई। इसकी वजह से सभी प्रकार के लोन की EMI पर बोझ कम हो गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here