Home Health Tips स्त्री हो या पुरुष सोने से पहले जरूर करें यह 2 काम...

स्त्री हो या पुरुष सोने से पहले जरूर करें यह 2 काम संवर जाएगी जिंदगी, आइए जाने

आजकल के आधुनिक युग में मोबाइल फोन जिंदगी का अभिन्न अंग बन चुका है. इसकी मदद से हम चाहे फैमिली हो या सामाज सबसे जुड़े रहते हैं. परन्तु इसके अत्यधिक इस्तेमाल से कई प्रकार की परेशानियां अथवा बीमारियाँ पैदा हो रही हैं. यह लेख मोबाइल फोन के इस्तेमाल से किस प्रकार कि बीमारियां पनप रहीं है और इसके इस्तेमाल से क्या-क्या नुकसान हो रहा है के बारे में अध्ययन करेंगे.
1.बगैर मोबाइल के हमारा जीवन अस्त व्यस्त लगता है, इसलिए मोबाइल का उपयोग हम दिन-रात करते हैं, जबकि मोबाइल का प्रयोग दिन के समय ही लाभकारी होता है, यदि आप रात के समय अंधेरे में भी मोबाइल का प्रयोग करते हैं तो इससे आपके मस्तिष्क पर बुरा प्रभाव पड़ता है, मोबाइल का प्रयोग अंधेरे में करते समय नींद भी कम आती है, यदि आपको नींद आए और आप मोबाइल का प्रयोग करते रहे तो यह नींद को दूर करती है, क्योंकि मोबाइल की स्क्रीन से निकलने वाली ब्लू लाइट आंखों के लिए हानिकारक होती हैं, जो कि नींद को दूर करने की सबसे बड़ी वजह है| 1. वैज्ञानिक शोध निष्कर्षों में पाया गया है कि मोबाइल से जो रेडिएशन निकलती है वह बहुत हानिकारक होती है: इससे पाचन शक्ति कमजोर और नींद कम आने की बीमारी हो सकती है. यूनिवर्सिटी ऑफ केलिफोर्निया के एक शोध के अनुसार मोबाइल को वाइब्रेशन मोड पर ज्यादा देर तक इस्तेमाल करने से कैंसर का खतरा बढ़ सकता है. इसलिए मोबाइल को साइलेंट या फिर वाइब्रेशन में करके तकिये के निचे रखकर नही सोना चाहिए. ऐसा इसलिए क्योंकि मोबाइल से जो इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडिएशन निकलती है, वह दिमाग की कोशिकाओं को वृद्धि करने में प्रभावित करती है जिससे ट्यूमर विकसित हो सकता है. युवाओं के सर को 25%, 10 से 5 साल तक के बच्चों के सर को 50% और 5 साल के कम उम्र के बच्चों को 75% तक प्रभावित करता है. क्या आप जानते है कि मोबाइल शारीर से पानी सोख लेता है. हैना हैरान करने वाली बात. मोबाइल को लंबे समय तक इस्तेमाल करने से जो तरंगे निकलती है वह पानी सोख लेती है.जवाहरलाल नेहरु कॉलेज के प्रो. जितेंद्र बिहारी का कहना है कि मानव शारीर में तकरीबन 70% पानी होता है और जब यह रेडिएशन के प्रभाव में होता है तो इसका अवशोषण करता है.
2.रात को सोते समय लाइट को बंद कर दें या कम रोशनी वाले बल्ब का प्रयोग करें, क्योंकि अधिक रोशनी स्लीप हार्मोन का प्रोडक्शन कम करती है, इस लिए अच्छी नींद के लिए बल्ब को बंद करें सोए|

Previous articleआँखों को पूरी तरह बर्बाद कर देती है आपकी एक गलती, आइए जाने
Next articleसूखी खांसी और बलगम वाली खांसी से पाए छुटकारा सिर्फ एक दिन में, आइए जाने

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here