घर के वास्तु बिगड़ने से काफी समस्याएं उत्पन्न होने की संभावनाएं बनी रहती हैं।  गरुड़ पुराण के अनुसार अगर घर का वास्तु सही नहीं है तो घर में गृह क्लेश सहित कई समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। इसलिए घर का वास्तु सर्वप्रथम देखना चाहिए। जिससे कि भविष्य में किसी तरह की समस्या न उत्पन्न हो सके।
इसी तरह से शिव पुराण में भी बताया गया है कि घर के वास्तु के बिगड़ने से स्वता वस्तुएं बिगड़ने लगतीं  हैं। रिश्ते खराब होने लगते हैं और गरीबी आ जाती है। इतना ही नहीं घर में कई तरह की नकारात्मक उर्जा भी प्रवेश कर जाती है। 
इसलिए घर बनाते समय घर के वास्तु पर अधिक ध्यान देना चाहिए लेकिन कुछ लोग ऐसा नहीं करते हैं और बाद में उन्हें कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। आज इस लेख में दो ऐसे उपायों के बारे में बताया जा रहा है। जिन्हें कर लेने से काफी हद तक घर का वास्तु सही हो जाता है और घर में फैली तमाम तरह की समस्याएं और धन आदि की समस्या भी हल हो सकती है।

वास्तु को कैसे ठीक करें  

सर्वप्रथम याद रखें की आप जिस घर में रहते हैं उस घर के बेडरूम में जिस जगह पर विस्तर पड़ा हुआ है। वह शीशे में स्पष्ट रूप से दिखाई नहीं देना चाहिए अर्थात शीशा ऐसी जगह लगाएं जहां से आपका बेड दिखाई ना दे। 
इसके अलावा घर में शीशे को सदैव पूर्व या पश्चिम की दिशा में ही लगाएं। इसके अलावा अन्य किसी दिशा में न लगाएं। इससे काफी लाभ मिलता है। इसके अलावा यह ध्यान रखें की घर के मृतक सदस्यों की तस्वीरें सदैव घर की दक्षिण दिशा की दीवार में लगाएं। 
इसके अलावा किसी अन्य दिशा में न लगाएं और अगर आपके कमरे की खिड़की दक्षिण की दिशा में है तो हो सके तो उसे पूरी तरह से बंद कर दें। क्योंकि दक्षिण दिशा की खिड़की से भारी संख्या में नकारात्मक ऊर्जा प्रवेश करती है। जो घर के सभी सदस्यों के लिए बहुत ही हानिकारक होती है। 
खिड़की दरवाजों का इसलिए ध्यान रखना चाहिए कि अगर मकान का मुंह पूर्व की दिशा में है तो खिड़कियों को पश्चिम या पूर्व या फिर उत्तर दिशा में ही लगाएं। इसके अलावा दक्षिण दिशा में खिड़कियों को कदापि ना लगाएं। इन सभी चीजों को सुधारने के बाद आपको काफी फायदे देखने को मिलेंगे।
Share.

Leave A Reply

error: Content is protected !!