लाइफ स्टाइल: आज के समय में भारत में ऐसे बहुत ही कम और गिने-चुने लोग ही होंगे जो किसी भी दवाई का इस्तेमाल न कर रहे हों। अन्यथा हर आदमी किसी न किसी समस्या से ग्रसित है और उसके लिए दवाइयों का इस्तेमाल कर रहा है। इसका मुख्य कारण है आज के समय की बदलती हुई लाइफ़स्टाइल। जिस तरह से लाइफ स्टाइल बदल रही  है उसी तरह से लोगों की लाइफ बदलती जा रही है। 
इसके दुष्परिणाम के रूप में मोटापा, हाई बीपी, कैंसर, पैरों में दर्द, सुनाई न देना, हार्ट अटैक, सीने में दर्द और पेट का खराब रहना इत्यादि बहुत सी समस्याओं ने लोगों को घेर रखा है। इसका मुख्य कारण लोग लाइफ स्टाइल को नियमित रूप से नहीं जी रहे बल्कि अपनी लाइफ को ही बदलते जा रहे हैं। 
उदाहरण के तौर पर मान लिया एक व्यक्ति को सुबह ऑफिस जाना है तो वह सुबह उठकर काफी मात्रा में खाना खा लेता। इसके बाद दोपहर में नाश्ता करता है और फिर शाम के समय ठूस -ठूस कर खाता है और बिना कोई व्यायाम या कसरत किए सो जाता है। क्योंकि वह ऑफिस से इतना ज्यादा थका हुआ होता है। इससे बहुत जल्दी मोटापा बढ़ने लगता है और मोटापा बढ़ने से कई बीमारियां घेर लेती।

इस तरह की बनायें लाइफ स्टाइल

दुनिया में लगभग सब कुछ खाने के लिए बनाया गया है। इसलिए खाने से परहेज नहीं करना चाहिए, किंतु खाने से पहले कुछ चीजों का ध्यान रखना चाहिए। सबसे पहले सुबह उठकर हल्का-फुल्का व्यायाम करें। इसके बाद हल्का नाश्ता करें फिर ऑफिस जाने के बाद ड्राई फ्रूट आदि का इस्तेमाल करें। ड्राई फ्रूट भूख को कम करते हैं। इसके बाद दोपहर को हल्का नाश्ता करना चाहिए तत्पश्चात ऑफिस से निकलने के 2 घंटे पहले कुछ हल्का नाश्ता ले सकते हैं। 
जिसमें चाय कॉफी या दूध अथवा जूस का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके बाद जब शाम को आएंगे तो इतनी ज्यादा भूख नहीं लगेगी। जिससे अधिक खाना नहीं खा पाएंगे। अगर इस तरह से अपनी लाइफ स्टाइल बदलते हैं तो आपकी लाइफ ऑटोमेटिक स्वस्थ हो जाएगी। 
इतना ध्यान रखना चाहिए खाना थोड़ा-थोड़ा और कुछ घंटों के अंतराल पर खाना चाहिए जिससे शरीर पर किसी तरीके का प्रभाव भी नहीं पड़ता है और ऊर्जा भी मिलती रहती है। एक साथ ज्यादा खाना खाने से शरीर को ज्यादा उर्जा मिल जाती है। जिसके कारण उस उर्जा से वसा में परिवर्तित हो जाती है और शरीर में वसा बननी शुरू हो जाती है। जिससे इंसान मोटापा का शिकार हो जाता है।
Share.

Leave A Reply

error: Content is protected !!