लखनऊ : 2 अक्टूबर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती पर मुख्यमंत्री योगी जी की सरकार ने उत्तर प्रदेश के लोगों को एक बड़ा तोहफा दिया है। जिससे लोगों को काफी लाभ मिलेगा और कोरोना से परेशान व्यक्तियों को भी इससे खासा लाभ मिलने वाला है। लोक भवन में मौजूद राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा की दो सगी बहनों के एक स्कूल में पढ़ने पर एक बहन की पूरी तरह से फीस माफ की जाएगी। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 

आयोजित कार्यक्रम में माननीय राज्यपाल आनंदीबेन पटेल जी ने कहा कि हम राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं पूर्व मुख्यमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी की जयंती मना रहे हैं उन्होंने बताया कि गांधीजी ने सदैव अहिंसा का रास्ता चुना और अंग्रेजों को देश से भागना पड़ा इसके अलावा बच्चों के पोषण याद पर भी काफी चर्चा की गई।
जो बच्चे प्राइवेट स्कूलों में पढ़ते हैं उनमें अगर दो बहने एक ही स्कूल में पढ़ रही हैं। तो एक बहन की फीस माफ की जाएगी और उसका भुगतान स्कूल को शासन की तरफ से किया जाएगा। योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री जी के मार्गदर्शन में शिक्षा के स्तर को काफी ऊंचा किए जाने की व्यवस्था की गई है। 
इसके साथ ही मुख्यमंत्री जी ने कहा कि अगर दो बहनों में से एक बहन की फीस माफ होगी तो इससे बालिका शिक्षा में काफी बढ़ावा मिलेगा। मुख्यमंत्री जी ने यह भी कहा कि सरकारी स्कूलों में स्नातक तक की शिक्षा को पहले से ही मुफ्त में दिया जा रहा है। इसके साथ ही उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने उत्तर प्रदेश के 151215 छात्र और छात्राओं को लगभग 177 करोड़ रुपए की छात्रवृत्ति का भी ऑनलाइन हस्तांतरण भी किया गया।
 उत्तर प्रदेश के ऑफिशियल टि्वटर हैंडल पर भी ट्वीट कर कहा गया कि बालिका शिक्षा पर हमें एक विचार करना चाहिए। अगर परिवार की दो बालिकाएं एक ही निजी विद्यालय में पढ़ रही हैं तो एक की फीस माफ करें या विद्यालय स्तर से हो अथवा शासन स्तर से ट्यूशन फीस विद्यालयों को प्रदान की जाए। जिससे अभिभावक को राहत मिल सके। 
मुख्यमंत्री जी ने यह भी कहा इस बार 30 नवंबर तक सभी मेधावी छात्रों को छात्रवृत्ति अवश्य उपलब्ध करा दी जाएगी। इसके अलावा उन्होंने विभाग को भी आदेशित करते हुए कहा इस काम को बहुत ही प्राथमिकता से किया जाना चाहिए। 
इस अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल आनंदीबेन पटेल द्वारा बटन दबाकर 10 छात्रों की छात्रवृत्ति उनके खाते में भी हस्तांतरित की गई और उन्हें छात्रवृत्ति का प्रमाण पत्र भी दिया गया। 
Share.

Leave A Reply

error: Content is protected !!