लखनऊ : उत्तर प्रदेश मैं इस समय चुनाव का माहौल बहुत ही गर्म जोशी से चल रहा है। कुछ नेता इधर से उधर तो उधर से इधर अपना ठिकाना तलाश रहे। नेताओं को पार्टी छोड़ने का सिलसिला बहुत तेजी से चल रहा है। जिस तरफ पल्ला भारी दिखता है नेता लोग पार्टी छोड़कर उसी तरफ जा मिलते हैं।

आजमगढ़ के हमारे संवाददाता के. शास्ता के अनुसार सपा को एक बहुत बड़ा झटका लगा। क्योंकि आजमगढ़ के धुरंधर समाजवादी पार्टी के नेता शिव शंकर यादव ने समाजवादी पार्टी को छोड़कर बसपा का दामन थाम लिया है।

मायावती की पार्टी में शामिल हुआ सपा का यह नेता 

इससे समाजवादी पार्टी को आजमगढ़ में एक बहुत बड़ा झटका लगा है। शिव शंकर यादव ने मायावती के बारे में कहा की मायावती की नीतियां सर्वश्रेष्ठ होती हैं। वह जो कहती हैं उसे करती हैं। अन्य पार्टियों की तरह उनके राज्य में गुंडागर्दी, किडनैपिंग और बलात्कार जैसे कार्य पूरी तरह से बंद हो जाते हैं लेकिन अन्य सरकारों में यह सब कार्य बहुत ही तेजी से बढ़ जाते हैं।

मायावती एक महान नेता है। शिव शंकर यादव ने बताया कि हम काफी दिनों से बसपा में आना चाहते थे क्योंकि मायावती जी का आचरण सर्वोपरि है। वह सर्व समाज की हितेषी हैं और सर्व समाज को साथ में लेकर चलती हैं। इतना ही नहीं बहन मायावती ने अपने कार्यकाल में जितना कार्य कराया वह कार्य समाजवादी पार्टी और वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी कर रही है।

बहन मायावती के अतिरिक्त कोई नया काम नहीं किया गया है। मायावती ने अपने समय में बहुत भारी संख्या में स्कूल कॉलेज और अस्पताल बनवाए थे। इसके अलावा महिलाओं को कई तरह की पेंशन आदि दी थी। जो बात में समाजवादी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी ने सभी स्कीमों को या तो बंद कर दिया या फिर उनका नाम बदल दिया।

योगी आदित्यनाथ के नाम लेने पर उन्होंने कहा कि बाबा जी ने सिर्फ जिलों के नाम बदले हैं। इसके अलावा उन्होंने कुछ नहीं किया है। शिव शंकर यादव आजमगढ़ के एक जाने-माने नेता है। बहुजन समाज पार्टी में उनके आने से बीएसपी का आजमगढ़ में काफी कद बढ़ा है।

वहीं दूसरी तरफ समाजवादी पार्टी को इसका बहुत बड़ा नुकसान भविष्य में देखने को मिल सकता है। समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेताओं में से एक माने जाने वाले शिव शंकर यादव ने अपने सैकड़ों साथियों के साथ बहुजन समाज पार्टी को ज्वाइन कर लिया है।

Share.

Leave A Reply

error: Content is protected !!