Home Latest News बिहार में होने वाले पंचायत चुनावों को लेकर निर्वाचन आयोग द्वारा तैयारियां...

बिहार में होने वाले पंचायत चुनावों को लेकर निर्वाचन आयोग द्वारा तैयारियां लगातार जारी

बिहार में होने वाले पंचायत चुनावों को लेकर निर्वाचन आयोग द्वारा तैयारियां लगातार जारी हैं. यह पहले ही तय हो चुका है कि पंचायत चुनाव की तारीखों का ऐलान 15 अगस्त के बाद कभी भी किया जा सकता है. निर्वाचन आयोग ने यह स्पष्ट कर दिया है कि पंचायत चुनाव को लेकर मुखिया या पंचायत के किसी पद का प्रत्याशी वोट के लिए रुपए लुटाता है तो उसकी खैर नहीं है. आयोग द्वारा जारी निर्देशों का उल्लंघन करने पर एफआईआर किया जाएगा और उम्मीदवारी भी निरस्त कर दी जाएगी. इस बीच आयोग ने चुनाव जीतने के लिए कोई भी हथकंडा अपनाने से बाज न आने वाले प्रत्याशियों पर नकेल कस दिया है.
राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा गाइडलाइन भी जारी कर दी गई है. पंचायत चुनाव के दौरान वोट के लिए नोट लुटाने वालों पर निर्वाचन आयोग की पैनी नजर रहेगी. इसके लिए निर्वाचन आयोग ने पंचायत चुनाव 2021 के उम्मीदवारों के लिए खर्च सीमा का ब्यौरा जारी कर दिया है. कोई भी जिला परिषद उम्मीदवार अधिकतम 1 लाख तक ही खर्च कर सकता है. निर्वाचन आयोग द्वारा जारी गाइडलाइन में उम्मीदवारों के लिए क्या करें और क्या न करें की व्यापक जानकारी भी दी गई है. निर्वाचन आयोग की मानें तो जिला परिषद सदस्य का चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवार को 1 लाख तक खर्च करने की छूट है तो मुखिया और सरपंच उम्मीदवार 40 हज़ार रुपये खर्च कर सकते हैं.
पंचायत समिति के सदस्यों को 30 हजार खर्च करने का हक होगा, वहीं ग्राम पंचायत सदस्य और पंच को 20 हज़ार खर्च करने की छूट मिलेगी. कोई भी प्रत्याशी किसी भी राजनीतिक दल का झंडा बैनर इस्तेमाल नहीं करेगा. अगर कोई ऐसा करता है तो उसे अयोग्य घोषित कर दिया जाएगा. साथ ही धर्म, नस्ल, जाति, समुदाय या भाषा के आधार पर विभिन्न वर्गों के बीच घृणा फैलाने को भी आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन माना जाएगा और उम्मीदवारों पर आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत कार्रवाई की जाएगी.
इसके अलावा चुनाव प्रचार के लिए मंदिर, मस्जिद या दूसरे धार्मिक स्थलों का मंच के रूप में इस्तेमाल करना वर्जित किया गया है. जातीय और धार्मिक भावनाओं के माध्यम से वोट मांगने की कोशिश में भी कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा. चुनाव के दौरान उम्मीदवारों को जुलूस के शुरू होने का समय उसका स्थान उसकी शुरुआत और उसकी समाप्ति के बारे में विस्तृत ब्यौरा देना होगा. इसके लिए प्रशासन से पूर्व अनुमति भी लेनी होगी.

Previous articleपंचायत चुनाव के दौरान मतदान के लिए मतदाताओं को वाहन से लाने वाले उम्मीदवार के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी
Next articleइस दिशा में भूल से भी महिलाओं को नहीं करना चाहिए श्रंगार, जानिए क्यों

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here