Home Latest News बिहार में कोरोना टीकाकरण अभियान के तहत वैक्सीन की दूसरी डोज लेने...

बिहार में कोरोना टीकाकरण अभियान के तहत वैक्सीन की दूसरी डोज लेने के लिए अलग काउंटर बनाए जाएंगे

बिहार में कोरोना टीकाकरण अभियान के तहत वैक्सीन की दूसरी डोज लेने के लिए अलग काउंटर बनाए जाएंगे। स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना टीकाकरण अभियान के तहत संचालित करीब तीन हजार टीकाकरण केंद्रों में दूसरी डोज के लिए अलग-अलग काउंटर बनाने का निर्णय लिया है।
स्वास्थ्य विभाग के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि टीकाकरण अभियान के तहत टीका दिए जाने के क्रम में टीके की पहली और दूसरी डोज लेने वालों के बीच भारी अंतर को दूर करने को लेकर यह निर्णय लिया गया है। राज्य में 16 जनवरी, 2021 से कोरोना टीकाकरण अभियान संचालित किया जा रहा है।
राज्य में अबतक कोरोना टीकाकरण अभियान के तहत शुक्रवार तक 2.69 करोड़ व्यक्तियों को कोरोना टीका की पहली डोज दी जा चुकी है जबकि कोरोना टीके की दूसरी डोज लेने वाले व्यक्तियों की संख्या मात्र 52.52 लाख है। करीब 20 फीसदी व्यक्तियों को ही कोरोना टीके की दूसरी डोज मिल सकी है।
आपके अपने अखबार हिन्दुस्तान ने 19 अगस्त 2021 के अंक में राज्य में कोरोना टीकाकरण अभियान के तहत दूसरी डोज लेने वालों की संख्या 20 फीसदी होने से जुड़ी खबर प्रमुखता से प्रकाशित की थी। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने तत्काल कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज लेने वालों की संख्या को बढ़ाने के लिए दूसरा काउंटर बनाने की तैयारी शुरू कर दी है।
टीका का दूसरा डोज लेने वालों को होती है काफी परेशानी
राज्य के टीकाकरकण केंद्रों पर कोरोना टीका की पहली डोज लेने वालों की भीड़ होने और दूसरी डोज लेने वालों की संख्या कम होने के कारण वे नजरअंदाज कर दिए जाते हैं और उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। अस्पताल प्रशासन भी पहले डोज लेने वालों की भीड़ को देखते हुए उन्हें प्राथमिकता देने को मजबूर होता है।
ऐसे में दूसरी डोज लेने वालों में अरुचि हो जाती है और वे कम संख्या में टीकाकरण केंद्रों में पहुंचते है। स्वास्थ्य विभाग के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि टीकाकरण केंद्रों पर टीका की दूसरी डोज लेने वालों की परेशानी कम करने और उन्हें सुविधा प्रदान कर प्रोत्साहित करने में अलग से काउंटर काफी लाभकारी होगा।
संभव हो तो निर्धारित तारीख को ही दूसरी डोज लें
नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल के मेडिसिन विभाग के कोरोना के नोडल अधिकारी डॉ. अजय सिन्हा के अनुसार अगर संभव हो सके तो निर्धारित तारीख को ही टीकाकरण कराना चाहिए। लेकिन किसी समस्या के चलते अगर उस तारीख को वैक्सीन की दूसरी खुराक नहीं मिल पाती पाते तो इसमें घबराने की कोई बात नहीं है। छह माह तक टीका की पहली डोज की मेमोरी शरीर में रहती है। हालांकि, कोशिश करें कि निर्धारित तिथि के नजदीक ही किसी दूसरी तारीख को चुनें। इससे संक्रमण की संभावना कम रहेगी।
120 दिनों का अंतर हो गया है दूसरी डोज लेने में
स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार राज्य में कोरोना टीकाकरण के दौरान करीब 120 दिनों (चार माह) का अंतर दूसरी डोज लेने में हो गया है। टीका की प्रारंभ में कमी, अनियमित आपूर्ति, टीकाकरण केंद्रों पर पहली डोज लेने वालों की भीड़, कोवैक्सीन टीका की आपूर्ति कम होने, पहला टीका लेने वालों में अरुचि इत्यादि विभिन्न कारणों से टीका की दूसरी डोज लेने में अंतर बढ़ गया है।
राज्य में प्रारंभ में कोविशील्ड के साथ कोवैक्सीन का टीका भी दिया जा रहा था। कोविशील्ड की दूसरी डोज लेने के समय में कई बार बदलाव लाया गया। 28 दिन फिर 42 दिन फिर 83 दिन बाद दूसरी डोज दिए जाने की अनुशंसा की गयी। वहीं, कोवैक्सीन टीका की दूसरी डोज 28 दिनों बाद दी जाती है जबकि इसकी आपूर्ति अपेक्षाकृत कम हुई है।

Previous articleउत्तर प्रदेश के सात शहरों में बसों में रक्षाबंधन पर महिलाओं को मुफ्त यात्रा की सुविधा मिलेगी
Next articleउत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग द्वारा आयोजित पीईटी मंगलवार को शांतिपूर्वक संपन्न हो गई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here