पूसा नन्हा: पपीता विटामिन ए का बहुत बड़ा स्रोत होता है। इसके अलावा इसे भारत में भारी संख्या में उपयोग किया जाता है। इसलिए पपीते की खेती में नुकसान की संभावना बहुत कम रहती है और अगर अच्छी प्रजाति की बुवाई की जाए तो फिर फायदा बहुत ही ज्यादा होता है। 
आज के लेख में एक ऐसी प्रजाति के बारे में बताने जा रहा हूं। जिससे भारी संख्या में इनकम की जा सकती है। आइए विस्तार से जानते हैं पपीता की इस प्रजाति के बारे में-
आज मैं जिस प्रजाति के बारे में बताने जा रहा हूं उस प्रजाति का नाम पूसा नन्हा है। यह प्रजाति बहुत ही पॉपुलर है। साथ ही इससे अच्छी कमाई भी होती है। अगर खेती में भी बिजनेस करना चाहते हैं तो पपीते की पूसा नन्हा प्रजाति की खेती करें और भारी से भारी मुनाफा कमाए।

पूसा नन्हा प्रजाति के पपीते

पूसा नन्हा पपीते की ऐसी प्रजाति है जिसके 6000 से लेकर 6400 तक पौधे एक हेक्टेयर में लगाये  जा सकते हैं। अब आपको यह भी बता दें कि इसके एक पौधे से 40 किलोग्राम से लेकर 50 किलोग्राम तक फल आते हैं। यह पौधा ऊंचाई में बहुत छोटा होता है और जड़ से कुछ दूरी से ही इस में फल लगने शुरू हो जाते हैं। 
हालांकि उत्तर प्रदेश में यह प्रजाति अभी ज्यादा मात्रा में प्रचलित नहीं है लेकिन इसकी खेती करके अच्छी खासी इनकम कमाई जा सकती है। पूसा नन्हा प्रजाति की बुवाई का मुख्य समय अक्टूबर माह होता है किंतु इसकी बुवाई फरवरी माह में भी की जा सकती है लेकिन ध्यान रहे फरवरी माह में इसकी पौध लगाकर बुवाई की जाती है। 
यह पौधे आम पपीता की अपेक्षा बहुत ही छोटे होते हैं इसलिए सर्दी से बचाने के लिए इनके ऊपर पॉलिथीन या पन्नी से ढक देना चाहिए इसके अलावा पुआल से भी इन्हें ढक  सकते हैं ताकि ज्यादा सर्दी का असर इन पर ना पढ़ सके।
 पूसा नन्हा प्रजाति में ज्यादा बीमारियां भी नहीं लगती हैं। खासकर इसमें सफेद चूर्ण कवक नाम का फफूंद लगता है। इससे बचाव के लिए सल्फैक्स 0.2 फीसद या फिर 2 ग्राम सल्फैक्स की मात्रा लेकर 1 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करना चाहिए।  हर 15 दिन पर इसका छिड़काव करने से सफेद चूर्ण कवक की समस्या खत्म हो जाती है और अच्छी उपज प्राप्त की जा सकती है। 
पूसा नन्हा की खेती से 80 से लेकर 100 टन तक प्रति हेक्टेयर उत्पादन प्राप्त किया जा सकता है। पपीते की बाजार में खपत काफी मात्रा में रहती है और पपीता कभी भी अधिक सस्ता भी नहीं होता। इसलिए पपीते से अच्छी कमाई के चांस बहुत ज्यादा रहते हैं किसान भाई पपीते की पूसा नन्हा प्रजाति से अच्छा खासा लाभ प्राप्त कर सकते हैं।
जानकारी-राज कुमार गौतम कृषि स्नातक 
Share.

Leave A Reply

error: Content is protected !!