Home Latest News पूर्व विधायक नागेन्द्र महतो के नेतृत्व में औरा पावर सब स्टेशन मे...

पूर्व विधायक नागेन्द्र महतो के नेतृत्व में औरा पावर सब स्टेशन मे एक दिवसीय संकेतिक धरना दि

बगोदर की बदहाल बिजली व्यवस्था और औरा पावर सब स्टेशन को सरिया पावर ग्रिड से अब-तक जोड़े नही जाने को लेकर बिजली विभाग के खिलाफ भाजपा के पूर्व विधायक नागेन्द्र महतो के नेतृत्व में औरा पावर सब स्टेशन मे एक दिवसीय संकेतिक धरना दिया गया। धरना को सम्बोधित करते हुए:
”  पूर्व विधायक नागेन्द्र महतो ने कहा कि विगत दो साल पूर्व मेरे कार्यकाल में बगोदर इलाके में औरा समेत अन्य पांच सब स्टेशन की स्वीकृति दिलायी थी। वही बदहाल बिजली व्यवसथा को सुधारने के लिए ही सरिया पावर ग्रिड सब स्टेशन पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास के कार्यकाल में ही निर्माण भी कराया गया। ताकि बगोदर क्षेत्र की जनता को बिजली की समस्या से निजात दिलाया जाये । लेकिन सरकार बदलते ही बिजली की सुविधा से लोगों को वंचित रखा जा रहा है। सरिया पावर ग्रिड को भले ही चालु तो किया गया है । लेकिन बगोदर और औरा सब स्टेशन को इससे दरकिनार रखा गया है। इसमे विभाग की मंशा क्या है। जिससे विभाग की लापरवाही सामने आया है। उन्होनें यह भी कहा कि विगत 12 जून को विभाग के गिरिडीह अधीक्षण अभियंता समेत उपायुक्त, एसडीओ समेत वरीय अधिकारियो को पत्र लिखा गया कि दस दिनो के भीतर औरा सब स्टेशन को सरिया पावर ग्रिड से जोड़ा जाये । लेकिन विभाग के द्वारा कोई भी पहल नहीं किया गया है। इसके साथ ही बगोदर सब स्टेशन को भी जोडने और नया फीडर नही बहाल की गई हैं। वही धरना के माध्यम से विभाग को चैतवानी दी गई है। कि जल्द से जल्द सरिया पावर ग्रिड से औरा सब स्टेशन और बगोदर को जोड़ा जाए। अन्यथा आगे भाजपा उग्र आन्दोलन का रुख अखितियार करेगी।”
मौके पर अनुमंडल सांसद प्रतिनिधि छोटे लाल यादव, प्रधान टेकलाल चौधरी, भाजपा प्रखंड अध्यक्ष अशोक सोनी,  जितेन्द्र सिंह, राजु सिंह, सुखदेव राणा, दौलत महतो, शंकर पटेल, शहादत अंसारी समेत बड़ी संख्या भाजपा कार्यकर्ता मौजूद थे। वही  धरना की सूचना पर बिजली विभाग के कार्यपालक अभियंता आलोक कुमार धरना स्थल और अब पावर सब स्टेशन पहुंचे। जहां उन्होंने धरना दे रहे पूर्व विधायक नागेंद्र महतो समेत भाजपा कार्यकर्ताओं को आगामी दस से 15 दिनों में सब स्टेशन को सरिया पावर ग्रिड से जोड़ने की प्रक्रिया को पूरी किये जाने को लेकर आश्वसन दिया है। तब जाकर धरना समाप्त हुआ।

Previous articleसाप्ताहिक बंदी में श्रमिकों के सामने आ रहा खाने का संकट
Next articleक्षत्रिय भवन में सबसे ज्यादा 405 लोगों को लगी वैक्सीन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here