Home Latest News निर्वाचन आयोग की वेबसाइट प्रकरण में पुलिस ने पल्लवपुरम से एक युवक...

निर्वाचन आयोग की वेबसाइट प्रकरण में पुलिस ने पल्लवपुरम से एक युवक को गिरफ्तार किया

निर्वाचन आयोग की वेबसाइट प्रकरण में पुलिस ने पल्लवपुरम से एक युवक को गिरफ्तार किया है। युवक पर आरोप है कि वह अनाधिकृत रूप से वोटर आईडी कार्ड प्रिंट कर रहा था। सर्विलांस टीम ने सारे कंप्यूटर, मोबाइल फोन समेत काफी सामान कब्जे में लिया है। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। इस मामले में बिहार के एक युवक को भी आरोपी बनाया गया है। उसकी तलाश के लिए बिहार पुलिस को सूचना दी गई है।
मेरठ पुलिस को सूचना मिली थी कि पल्लवपुरम के दुर्गा कॉलोनी निवासी हरिशंकर अनाधिकृत रूप से वोटर आईडी कार्ड प्रिंट कर रहा है। सर्विलांस टीम को छानबीन के लिए लगाया गया। इनपुट सही मिलने के बाद बुधवार शाम को आरोपी हरिशंकर को सर्विलांस टीम ने दबोच लिया। आरोपी के पास से पांच लैपटॉप, पांच मोबाइल फोन, हार्ड डिस्क, एक बार कोड स्कैनर और भारी संख्या में वोटर आईडी कार्ड के प्रिंटआउट बरामद हुए हैं। पूछताछ में खुलासा हुआ कि हरिशंकर पटना निवासी अभिनव के लिए काम करता है। अभिनव ने ही वोटर आईडी प्रिंट करने का काम दिया था। पल्लवपुरम थाने में पुलिस ने हरिशंकर और अभिनव के खिलाफ 11 धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। आरोपी से पूछताछ की जा रही है।
वेब डिजाइनर है हरिशंकर
पुलिस पूछताछ में खुलासा हुआ कि हरिशंकर वेब डिजाइनर है। वह काफी समय से अभिनव के लिए काम कर रहा है। हरिशंकर ने ही कुछ समय पूर्व अभिनव के लिए वेबसाइड डिजाइन की थी। इसी वेबसाइड पर डाटा अपलोड करके प्रिंट निकाले जा रहे थे। इस बार भी वोटर कार्ड प्रिंट करने का काम अभिनव ने ही दिया था। पुलिस जांच कर रही है कि आखिर कितने वोटर कार्ड प्रिंट किए गए हैं।
निर्वाचन वेबसाइट प्रकरण में अब तक सात पकड़े
निर्वाचन आयोग के संविदाकर्मियों ने यूजर आईडी और पासवर्ड चोरी करके साइबर कैफे संचालकों को दिए थे। इसके बाद फर्जी तरीके से वोटर आईडी कार्ड तैयार किए जा रहे थे। इस संबंध में सहारनपुर में मुकदमा दर्ज किया गया। फिलहाल प्रकरण की जांच एसटीएफ लखनऊ कर रही है और अनाधिकृत रूप से वोटर आईडी कार्ड बनाने वालों को हर जगह ट्रेस किया जा रहा है। इसी मामले में सहारनपुर में विपुल सैनी समेत दिल्ली से अरमान मलिक उर्फ नियाज आलम, आशीष जैन, नितिन व आदित्य खत्री को पकड़ा गया। इसके अलावा राजस्थान के संजीव मेहता और दीपक मेहता उर्फ टेक्नीशियन को पकड़ा गया। मध्यप्रदेश के मुरैना निवासी हरिओम को मुख्य आरोपी बनाकर नामजद किया गया है। इसी मामले में अब मेरठ से गिरफ्तारी की गई है।
पल्लवपुरम में एक युवक हरिशंकर को पकड़ा गया है। सूचना मिली थी कि वह अनाधिकृत तरीके से वोटर आईडी कार्ड प्रिंट करा रहा था। यह युवक खुद भी प्रोग्रामर है। बिहार के युवक अभिनव के लिए काम करता है। इसी ने एक वेबसाइट डिजाइन की थी और उसी में डाटा डालकर वोटर आईडी कार्ड प्रिंट कर रहा था। पूछताछ जारी है।

Previous articleगर्मी से एक बार फिर से उत्तर भारत को राहत मिलने वाली है, जाने मौसम का हाल
Next articleपीएफआई के सदस्य सिद्दीक कप्पन का जेल में बयान लेने के लिए एसटीएफ द्वारा दी गई अर्जी को अपर जिलाजज प्रथम की अदालत ने खारिज कर दिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here