Home Latest News तीन साल से फरार चल रहे 50 हजार के इनामी दिनेश कुमार...

तीन साल से फरार चल रहे 50 हजार के इनामी दिनेश कुमार सिंह उर्फ अजय कुमार सिंह को एटीएस ने रविवार को गोरखपुर से गिरफ्तार कर लिया

तीन साल से फरार चल रहे 50 हजार के इनामी दिनेश कुमार सिंह उर्फ अजय कुमार सिंह को एटीएस ने रविवार को गोरखपुर से गिरफ्तार कर लिया। वह आतंकियों को फंडिंग करने वाले गिरोह से जुड़ा हुआ था। यह गिरोह पाकिस्तानी हैंडलरों को हवाला के माध्यम से रुपये पहुंचाता था।
गिरफ्तार अभियुक्त अजय कुमार सिंह पुत्र स्व. विश्वनाथ सिंह मूल रूप से गोरखपुर जिले के बांसगांव कस्बे के मरवटिया वार्ड नंबर तीन का रहने वाला है। वर्तमान में वह गोरखपुर के रागमगढ़ताल थाना क्षेत्र स्थित शिवाजी नगर में किराए के मकान में रह रहा था। तीन वर्षों से लगातार फरार रहने के कारण एटीएस से उस पर 50 हजार रुपये इनाम घोषित कर रखा था।
मार्च 2018 में गिरफ्तार हुए थे छह अभियुक्त
एटीएस ने 24 मार्च 2018 को अरशद नईम, नसीम अहमद, मुकेश प्रसाद, मुशर्रफ अंसारी उर्फ निखिल राय उर्फ डब्लू, सुशील राय उर्फ अंकुर राय व दयानंद यादव को गिरफ्तार किया था। इसमें अभियुक्त अरशद नईम व नसीम अहमद के कब्जे से करीब 46 लाख रुपये बरामद हुए थे तथा अन्य सह अभियुक्तों के कब्जे से भारी मात्रा में विभिन्न बैंकों की पासबुक, चेकबुक व एटीएम कार्ड बरामद हुए थे। बरामदगी और गिरफ्तारी के आधार पर 25 मार्च को एटीएस के लखनऊ थाने में आईपीसी की धारा 420, 467, 468, 471, 120बी व 121ए के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था।
विवेचना के दौरान दिनेश कुमार सिंह का नाम प्रकाश में आया। अजय सिंह ने मुशर्रफ अंसारी के साथ मिलकर फर्जी दस्तावेजों के आधार पर विभिन्न बैकों में अपनी फोटो लगाकर विभिन्न नाम से बैंक खाता खुलवाता था। इन खातों में जमा किए गए पैसे निकालकर हवाला के माध्यम से पैसा दूसरी जगह भेजा जाता था। इस गिरोह के द्वारा 150 से अधिक बैंक खाते फर्जी दस्तावेजों के आधार पर खोले गए, जिनमें लाखों का लेन-देन हुआ। खातों से पैसे निकालकर गिरोह के अन्य सदस्यों के माध्यम से उसे दिल्ली भेजा जाता था, जहां से हवाला के माध्यम से पैसे बाहर भेजा जाते थे।

Previous articleदेश के सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई के ग्राहकों के लिए अच्छी खबर, आइए जानें
Next articleअलीगढ़ ने पुलिस ने अवैध रूप से रह रहे दो और रोहिंग्या को रोरावर थाने की पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here