Home Latest News उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की आहट के साथ ही बसपा ने उम्मीदवार...

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की आहट के साथ ही बसपा ने उम्मीदवार घोषित करने का सिलसिला शुरू कर दिया

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की आहट के साथ ही बसपा ने उम्मीदवार घोषित करने का सिलसिला शुरू कर दिया है. इसी कड़ी में बसपा सुप्रीमो मायावती ने इटावा जिले की भर्थना सुरिक्षत विधानसभा सीट से कमलेश अंबेडकर को उम्मीदवार घोषित किया है. कमलेश बसपा एमएलसी भीमराव अंबेडकर की पत्‍नी हैं. इस बात की जानकारी इटावा के बहुजन समाज पार्टी के जिलाध्यक्ष शीलू दोहरे ने दी है.
इटावा बसपा जिलाध्‍यक्ष ने बताया कि अभी तक किसी भी दल ने इटावा की किसी भी सीट पर अपना उम्मीदवार घोषित नहीं किया है, जिसके चलते बसपा अपने पक्ष में माहौल होने की उम्मीद जता रही है. उन्होंने बताया कि कानपुर मंडल के मुख्य सेक्टर प्रभारी और एलएमसी भीमराव अंबेडकर की पत्नी कमलेश को भर्थना सुरक्षित विधानसभा सीट से बसपा ने टिकट दिया है.
पेशे ये लिपिक हैं कमलेश
कमलेश अंबेडकर इस समय इटावा के कॉलेज ( केके पोस्ट ग्रेजूएट कॉलेज) में लिपिक के तौर पर तैनात हैं. बता दें कि भर्थना सुरक्षित सीट में समाहित हो चुकी लखना सुरक्षित सीट से साल 2007 में कमलेश के पति भीमराव अंबेडकर बसपा एमएलए रह चुके हैं, लेकिन इसके बाद हुए विधानसभा चुनाव में उनको जीत नहीं मिली थी. हालांकि इस वक्‍त भर्थना सुरिक्षत विधानसभा सीट से भाजपा की सावित्री कठेरिया एलएलए हैं.
बसपा शिवपाल सिंह यादव के गढ़ में शाक्‍य उम्‍मीदवार लगाएगी दांव
इसके अलावा बसपा जिलाध्यक्ष शीलू दोहरे दावा किया कि बहुजन समाज पार्टी पूरी ताकत के साथ 2022 विधानसभा का चुनाव लडेंगी. वहीं, शिवपाल सिंह यादव के निर्वाचन इलाके के जसवंतनगर से शाक्य या फिर यादव उम्मीदवार को चुनाव मैदान में उतारने की तैयारी की जा रही है. इसी तरह से इटावा सदर विधानसभा से बसपा की प्लानिंग लोधी जाति के उम्मीदवार को पहली वरीयता पर उतारने की है. अगर लोधी जाति का उम्मीदवार नहीं मिला तो ब्राह्मण उम्मीदवार पर दांव लगाया जा सकता है. अगर लोधी और ब्राह्मण जाति का भी उम्मीदवार खरा नहीं उतरा तो फिर शाक्य जाति के उम्मीदवार पर दांव लगाया जायेगा. इटावा सीट से महेंद्र सिंह राजपूत के रूप मे बसपा चुनाव जीत चुकी है, लेकिन अभी तक जसवंतगर सीट पर बसपा को कामयाबी नहीं मिली है.

Previous articleयूपी के बांदा जेल में बंद माफिया विधायक मुख्तार अंसारी की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही
Next articleपूर्णियावासियों को नीतीश सरकार ने बहुत बड़ी सौगात दी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here