Home Latest News आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक विधानसभा में पारित होने पर मुख्यमंत्री नीतीश...

आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक विधानसभा में पारित होने पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि देश में जिस दौर में यह चर्चा चल रही

आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक विधानसभा में पारित होने पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि देश में जिस दौर में यह चर्चा चल रही थी कि एक नॉलेज यूनिवर्सिटी बने, तब हमने इसे बिहार में बनाने का फैसला किया। सीएम ने कहा कि जब ज्ञान विश्वविद्यालय बनाने की बात हो तो आर्यभट्ट से ज्यादा ज्ञानी भला कौन हो सकता है। उनके ज्ञान का लोहा दुनिया ने माना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय के नाम को कोई शार्ट नहीं करेगा। इसका नाम संक्षेप में नहीं लिया जाए। एकेयू कह देने से नई पीढ़ी के लोग आर्यभट्ट के बारे में भला कैसे जानेंगे। इस पर शिक्षामंत्री विजय चौधरी ने कहा कि मुख्यमंत्री जी की भावना से विभाग के लोगों को भी अवगत करा दिया गया है। पहले इसे एकेयू ही कहा जाता था लेकिन अब आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय ही कहा जाएगा।
शिक्षा एवं संसदीय कार्य मंत्री विजय चौधरी ने आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक पेश करते हुए कहा कि यह बिहार को शिक्षा और ज्ञान के क्षेत्र में खोया गौरव लौटाएगा। उन्होंने कहा कि यह दूसरे विश्वविद्यालयों से पूरी तरह अलग है। मेडिकल और इंजीनियरिंग विधा के कॉलेज अब आर्यभट्ट विश्वविद्यालय से अलग हो जाएंगे। वर्ष 2008 में इस विश्वविद्यालय को लेकर बने अधिनियम में संशोधन किया गया है।
उन्होंने कहा कि इस विश्वविद्यालय की स्थापना के पीछे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी की विशेष सोच निहित है। इसके नाम से ही विशिष्टता का बोध होता है। शिक्षा मंत्री ने कहा कि यहां नैनो टेक्नोलॉजी, खगोलशास्त्र, जलवायु परिवर्तन, रिवर स्टडीज, भूगोल, कला-संस्कृति, स्टेम सेल से जुड़े अत्याधुनिक विषयों की उच्चतम स्तर की पढ़ाई और शोध होंगे।
खेल के क्षेत्र में ऊंचा मुकाम हासिल करना राज्य सरकार का लक्ष्य
कला संस्कृति मंत्री डॉ. आलोक रंजन झा ने बिहार खेल विश्वविद्यालय विधेयक विधानसभा में पेश किया। उन्होंने कहा कि बिहार खेल विश्वविद्यालय की स्थापना करने वाला देश का छठवां राज्य होगा। इससे पूर्व राजस्थान, पंजाब, तमिनाडु, आसाम और गुजरात में खेल विश्वविद्यालय है। उन्होंने कहा कि खेल के क्षेत्र में ऊंचा मुकाम हासिल करना राज्य सरकार का लक्ष्य है। राज्य में खेल विश्वविद्यालय की स्थापना से राज्य की प्रतिभाओं को खेल, प्रशिक्षण, शारीरिक शिक्षा सहित इससे जुड़े अन्य क्षेत्रों में लाभ होगा। उन्होंने कहा कि राजगीर में खेल विश्वविद्यालय का निदेशालय होगा। संसदीय कार्य व शिक्षा मंत्री विजय चौधरी ने कहा कि यह हमेशा याद किया जाएगा कि जिस वक्त जापान के टोकियो में ओलंपिक खेलों का आयोजन हो रहा है, उसी वक्त बिहार में खेल विश्वविद्यालय विधेयक को मंजूरी मिली है।

Previous articleभारतीय जनता पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने मिशन-2022 की तैयारियां जोरशोर से शुरू कर दी
Next articleयूपी के बांदा जेल में बंद माफिया विधायक मुख्तार अंसारी की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here